शोपियां मुठभेड़: आतंकियों को बचाने के लिए जवानों पर पथराव, एक प्रदर्शनकारी की मौत; लश्कर कमांडर समेत 5 आतंकी ढेर

DainikBhaskar.com | Aug 04,2018 15:05 PM IST

कश्मीर के शोपियां में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के पांच आतंकियों को मार गिराया। वे किलोरा इलाके के एक घर में छिपे थे। सूचना मिलने के बाद सुरक्षाबलों ने शुक्रवार शाम इलाके में घेराबंदी की। देर रात हुई फायरिंग में लश्कर कमांडर उमर मलिक मारा गया। शनिवार सुबह चार और आतंकियों के शव मिले। मुठभेड़ को बाधित करने के लिए स्थानीय लोगों ने जवानों पर पथराव किया। इस दौरान सुरक्षाबलों और भीड़ के बीच झड़प हुई। इसमें एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गई, 12 से ज्यादा जख्मी हुए।

जम्मू: फारूक अब्दुल्ला के घर पर हमला, एसयूवी लेकर घुसे व्यक्ति ने तोड़फोड़ की; सुरक्षाबलों ने मार गिराया

DainikBhaskar.com | Aug 04,2018 13:39 PM IST

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला के घर में शनिवार को कार लेकर जबरन घुस रहे एक व्यक्ति को सुरक्षा बलों ने मार गिराया। पुलिस के मुताबिक, संदिग्ध मेन गेट से घुसने में कामयाब रहा और अंदर जाने की कोशिश में था। तभी उसे रोक दिया गया। इस दौरान उसकी सुरक्षा बलों से हाथापाई भी हुई। इस झड़प में ड्यूटी ऑफिसर को चोट आई है।

भारत ने कश्मीर में आतंकवाद की कमर तोड़ी, अब 2 साल से ज्यादा जिंदा नहीं रह पाते आतंकी: न्यूयॉर्क टाइम्स

DainikBhaskar.com | Aug 03,2018 19:21 PM IST

कश्मीर में आतंकी घटनाएं कम हुई हैं और आतंकी संगठन भी घट गए। इसकी वजह पाकिस्तान से कोई मदद नहीं मिलना बताया जा रहा है। सुरक्षा अधिकारियों की मानें तो कश्मीर घाटी में अब 250 आतंकी ही बचे हैं, जो 20 साल पहले 1000 से भी ज्यादा थे। हालांकि, उन्हें पूरी तरह बाहर निकालना आसान नहीं है। यह दावा अमेरिका के प्रमुख अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स ने किया। इसमें कहा गया कि पाकिस्तान में हुए राजनीतिक बदलाव का असर कश्मीर पर जरूर पड़ेगा। यहां लड़ाई छोटी जरूर होगी, लेकिन खून-खराबा बढ़ने का अंदेशा है।

कश्मीर के वेदरमैन: सुबह साढ़े 3 बजे मौसम का हाल बताते हैं, तब जाकर 4 बजे तय होता है अमरनाथ यात्रा का शेड्यूल

उपमिता वाजपेयी | Aug 03,2018 19:21 PM IST

अमरनाथ यात्रा जारी है। रोज तड़के 4 बजे पहलगाम से जत्था निकलता है। यात्रा में मौसम बड़ा फैक्टर होता है। आज की यात्रा में मौसम कोई रुकावट तो नहीं डालेगा, ये बताने का जिम्मा तमाम साल से कश्मीर के वेदरमैन सोनम लोटस संभाल रहे हैं। लोटस हर दिन तड़के 3.30 बजे उठकर मौसम की सटीक जानकारी जुटाते हैं और यात्रियों के बेस कैंप तक पहुंचाते हैं।