समाधान /गर्भावस्था में सिरदर्द क्यों होता है? इससे कैसे बचा जा सकता है

सिरदर्द न केवल दैनिक जीवन में बल्कि गर्भावस्था के दौरान भी बहुत आम समस्या है। ज्यादातर मामलों में सिरदर्द के कारण को समझना और इसे सुधारना काफी सुविधाजनक है। आपको केवल स्वस्थ जीवन शैली को अपनाने और कुछ बहुत ही सरल युक्तियों को लागू करने की आवश्यकता है, और आप आसानी से इस साधारण समस्या से निपट सकते हैं।

What causes headaches during pregnancy How can you avoid them
X
What causes headaches during pregnancy How can you avoid them

Jananam

Jananam

Feb 13, 2019, 07:30 PM IST

आधुनिक जीवनशैली के कारण कुछ दर्द और तकलीफ जीवन के अभिन्न हिस्से बन गए हैं। सिरदर्द ऐसी ही एक तकलीफ है। लेकिन जब यह तकलीफ गर्भावस्था की तीसरी तिमाही में होती है तब गर्भवती परेशान हो जाती है। ऐसे में आपकी सहायता के लिए इस अवस्था में होने वाले सिर के दर्द के कारण और उनसे कैसे बचा जा सकता है बताते हैं।

  • जानिए: गर्भावस्था में सिर दर्द क्यों होता है?

    कुछ स्थितियों में गर्भावस्था में महिला को विभिन प्रकार की परेशानियों से गुज़रना पड़ता है। यह परेशानी जब सिरदर्द के रूप में हो तब सबसे पहले यही प्रश्न सामने आता है कि इस सिर दर्द का क्या कारण हो सकता है? तो आइये देखते हैं :

    • हार्मोनल परिवर्तन : गर्भावस्था में महिला के अंदर हारमोन के संतुलन में अंतर आने के कारण सिर दर्द हो सकता है। इस हार्मोनल परिवर्तन के कारण रक्त-शिराओं में फैलाव आ जाता है जिसके कारण थकान, चिड़चिड़ाहट और सिरदर्द की परेशानी हो सकती है।

     

    a
    • किसी बीमारी का संकेत या परिणाम: कभी-कभी ऐसाहोता है कि गर्भवती स्त्री को नाक संबंधी कोई तकलीफ जैसे साइनस, नाक में जमाव, कोई एलर्जी के कारण सिर दर्द हो सकता है।

     

    डिप्रेशन
    • डिप्रेशन: कुछ गर्भवती महिलाएं मूड-स्विंग के कारणतीसरी तिमाही में डिप्रेशन का शिकार हो जाती हैं। इस स्थिति में भी वो सिरदर्द कि शिकायत कर सकतीं हैं।
    • भ्रूण का सम्पूर्ण विकास पूर्ण: तीसरी तिमाही के अंत आने तक शिशु के विकास कि प्रक्रिया लगभग पूरी हो चुकी होती है। इस स्थिति में शिशु का वजन बढ्ने के कारण गर्भवती के शरीर का रक्त मस्तिष्क कि ओर अधिक प्रवाहित होता है। यह स्थिति भी इस अवस्था में सिर दर्द का कारण बन जाती है।

     

    ध्वनि
    • ध्वनि प्रदूषण: जब गर्भवती के आसपास का वातावरणशोरगुल से भरा हो तब नींद की कमी, या ठीक से नींद न आने के कारण सिर दर्द हो सकता है।

     

    पोषण
    • पोषण की कमी: जब किसी कारणवश गर्भवती के शरीरमें पोषण की कमी हो जाती है तब शरीर में रक्त की कमी की परेशानी हो सकती है। ऐसे में अनिमिया  सिरदर्द का कारण बनता है।

     

    जीवनशैली
    • दूषित जीवनशैली: तीसरी तिमाही के आने पर भी यदिगर्भवती धूम्रपान और मदिरापान का त्याग नहीं करतीं है तब न केवल तनाव बढ़ता है बल्कि सिरदर्द की शिकायत भी निरंतर बनी रह सकती है।
    • प्री-एक्लेमप्सिया: अगर किसी कारण से तीसरी तिमाही में प्रवेश करने के बाद गर्भनाल सही तरीके से काम नहीं करती है तब इस स्थित में भी सिरदर्द हो सकता है।

     

    पानी
    • डिहाइड्रेशन (पानी की कमी)- गर्भावस्था के दौरान कमतरल पदार्थ या पानी का सेवन करने से आपको डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है।

  • गर्भावस्था में सिर दर्द से कैसे बचा जा सकता है:

    गर्भावस्था में सिर दर्द से कैसे बचा जा सकता है:

    गर्भावस्था में आप निम्न उपायों के माध्यम से सिर दर्द को होने से रोक सकतीं हैं:
    1. हमेशा संतुलत व पौष्टिक भोजन ही करें।
    2. रात को सोने के लिए एक नियमित समय सीमा का नियम सख्ती से अपनाएँ।
    3. अगर मधुमेह की शिकायत है तो भूखे न रहें।
    4. समय से आराम जरूर करें।
    5. ज़्यादा कैसे हुए कपड़े न पहनकर, ढ़ीले व आरामदायक वस्त्र का चयन करें ।
    6. बहुत तेज़ शोर और रोशनी से दूर रहें।
    7. ताज़ी हवा में सैर ज़रूर करें।
    8. काम करने के लिए हमेशा सही मुद्रा में बैठें।
    9. तनाव से बचने के लिए मेडिटेशन ज़रूर करें।
    10. कैफीन और संबन्धित प्रोडक्ट का सेवन कुछ समय के लिए बंद कर दें।
    11. पानी की कमीं न होने दें। एक या दो गिलास पानी पिएं और गहरी सांस लें।


    गर्भावस्था में सिरदर्द एक ऐसी परेशानी है जिससे सरलता से बचा जा सकता है। लेकिन एक दिन से अधिक सिरदर्द होने पर आप इसे अनदेखा न करें और डॉक्टर से संपर्क करके सही कारण जानने की कोशिश करें। घर पर रहकर स्वयं इलाज करना इस समय उचित नहीं होगा।

     

     

    Content by Jananam

COMMENT