सलाह व उपचार /गर्भावस्था में पेट पर खुजली कब चिंता का विषय होता है

कुछ मामलों में गर्भावस्था की तीसरी तिमाही में महिला को त्वचा के चकत्ते का सामना करना पड़ सकता है। यदि ये चकत्ते पेट के चारों ओर अधिक मात्रा में हैं, तो सलाह दी जाती है कि महिला उन्हें अनदेखा न करें और आगे निदान और उपचार के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

When is stomach itching a sign of worry during pregnancy
X
When is stomach itching a sign of worry during pregnancy

Jananam

Jananam

Feb 13, 2019, 07:53 PM IST

सामान्य रूप से परिवार की बुजुर्ग महिलाएं गर्भावस्था में खुजली को चिंता का विषय नहीं मानतीं हैं। उनका मानना है कि गर्भ के आकार के बढ्ने के कारण आमतौर पर गर्भवती के पेट पर खुजलाहट होना एक सामान्य बात है। लेकिन कभी-कभी इसका कारण कुछ और भी हो सकता है और तब यह थोड़ी चिंता और परेशानी की बात हो सकती है। हमसे जानिए कि गर्भावस्था में विशेषकर तीसरी तिमाही में पेट पर खुजली कब चिंता का विषय हो सकती है।

  • जानिए: गर्भावस्था में पेट पर खुजली-चिंता का कारण कब होती है :

    जानिए: गर्भावस्था में पेट पर खुजली-चिंता का कारण कब होती है :

    गर्भकाल की तीसरी तिमाही में गर्भवती के गर्भ का आकार बढ़ जाने के कारण विभिन्न प्रकार की अस्थायी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसी ही एक परेशानी है इस समय पेट पर खुजली का होना। पेट पर होने वाली यह खुजली चिंता का विषय तब बनती है जब यह शरीर में ब्लड शुगर के असंतुलित होने के कारण होती है।

     

    ब्लड शुगर का असंतुलन

    खुजली

    गर्भावस्था में हार्मोनल परिवर्तन के कारण कई बार गर्भवती के ब्लड में शुगर का लेवल असुंतलित हो जाता है। यह अवस्था टाइप 2 मधुमेह की कहलाती है। इस अवस्था में शरीर में बनने वाले इंसुलिन को शरीर सही रूप से प्रयोग नहीं कर पाता है। इससे शरीर में इंसुलिन इकट्ठा होने लगता है और पेंक्रिया अतिरिक्त इंसुलिन बना नहीं पाती हैं। इस अवस्था के कारण कई बार गर्भवती महिला की स्किन में खुजली की समस्या खड़ी हो जाती है। यह समस्या निम्न रूपों में प्रकट हो सकती है:

     

    • इन्फेक्शन: तीसरी तिमाही में गर्भवती के शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता के कमजोर होने के कारण किसी भी प्रकार का इन्फेक्शन सरलता से हो जाता है। इस स्थिति में यदि मधुमेह की परेशानी भी जुड़ जाये तब गर्भवती को पेट पर होने वाली खुजली की परेशानी में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।
    • स्किन के मस्से: गर्भकाल में, गर्भवती का शारीरिक वजन और ब्लड शुगर दोनों असंतुलित हो जाते हैं। ऐसे में गर्भवती के शरीर में, विशेषकर पेट पर मस्से जैसे छोटे-छोटे दाने हो जाते हैं जिनमें खुजली होती है। इनके होने पर गर्भवती को अनदेखा नहीं करना चाहिए।

     

    खुजली
    • रूखी स्किन: जब शरीर में मधुमेह जैसी स्थिति उत्पन्नहो जाती है तब गर्भवती के शरीर की स्किन विशेषकर पेट पर रूखापन आ जाता है। ऐसे में उस स्थान पर कभी-कभी असहनीय खुजली हो जाती है। अगर कभी इस प्रकार की स्थिति हो तब भी तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

     

    गर्भावस्था के अग्रिम चरण में यदि असहनीय खुजली की परेशानी हो जाये तब डॉक्टर से ब्लड शुगर के लेवल की जांच अवश्य करवाएँ।

     

    Content by jananm

COMMENT