जानकारी / गर्भावस्था टेस्ट के बारे में विस्तार से जानें

आप गर्भधारण कर चुके है कि नहीं, इसे सुनिश्चत करने के लिए आपको कुछ परीक्षण की आवश्यकता पड़ती हैं । इसके लिए आप मू्त्र परीक्षण या रक्त परीक्षण करवा सकते हैं । मूत्र परीक्षण घर में आसानी से परीक्षण किट के द्यारा किया जा सकता हैं, वहीं रक्त परीक्षण के लिए डाक्टर द्यारा किया जाता हैं । यह दोनों ही परीक्षण विश्वसनीय चिकित्सा परीक्षण हैं।

Medical test for confirming pregnancy. How does it work?
X
Medical test for confirming pregnancy. How does it work?

Jananam

Jananam

Apr 16, 2019, 04:43 PM IST

गर्भधारण करना एक महिला के जीवन के अनमोल पलों में से एक होता है । इस नौ महीने के समय में वो एक नई जिंदगी को अपने अंदर पालती है और उसे जन्म देती है। जब आप माँ बनने वाली होती है तो आपके मन में बेचैनी बनी रहती है ऐसे में गर्भावस्था परीक्षण की आवश्यकता पड़ती है। आज आप जानेंगे कि गर्भावस्था टेस्ट क्या है और यह कैसे काम करता है।

जानिये: गर्भावस्था परीक्षण क्या है और यह कैसे काम करता है ?

  1. क्या है गर्भाधारण परीक्षण

    गर्भधारण परीक्षण ये बताता है कि आप गर्भवती हैं या नहीं । गर्भाधारण परीक्षण मूत्र परीक्षण या रक्त परीक्षण द्वारा किया जाता है।

  2. कैसे करते है मूत्र द्वारा गर्भ परीक्षण

    मूत्र द्वारा गर्भ परीक्षण आप अपने घर या कार्यालय में आसानी से कर सकते है । पीरियड या मासिकधर्म मिस होने के एक सप्ताह बाद प्रेगनैंसी किट द्वारा परीक्षण किया जा सकता है । यह बहुत ही सुविधाजनक औऱ आसान होता है। मूत्र की कुछ बूंदें उस किट में दी गयी स्टिक पर डालने से आपको पता चल जाता है कि आप गर्भवती है या नहीं।
    यदि घर पर मूत्र द्वारा परीक्षण करने के बाद गर्भ परीक्षण में आप सफ़ल हो जाते है तो उसके बाद डॉक्टर को दिखाया जाता है, ताकि अन्य जाँचें करवाई जा सके।

  3. रक्त द्वारा गर्भ परीक्षण

    इस परीक्षण द्वारा गर्भाधारण के 6 से 8 दिनों में पता लगाया जा सकता है कि आप गर्भावती हैं या नहीं।
    रक्त परीक्षण दो प्रकार के होते हैं ।

    • पहला रक्त परीक्षण : यह एक गुणात्मक एचसीजी परीक्षण है जो इस बात की जांच करता है कि रक्त में एच् सी जी मौजूद है या नहीं। इसके लिए डॉक्टर गर्भधारण के 10 दिनों बाद इसके निर्देश देती है।  
    • दूसरा रक्त परीक्षण : यह एक मात्रात्मक एचसीजी परीक्षण है, जो आपके रक्त में एचसीजी की मात्रा को नापता है। इसके साथ ही इस परीक्षण द्वारा गर्भाधारण के दौरान होने वाली किसी भी अन्य समस्या के बारे में भी पता लगाया जा सकता है ।

    रक्त द्वारा किया गया गर्भ परीक्षण, मूत्र परीक्षण द्वारा किए गए गर्भ परीक्षण की तुलना में जल्दी परिणाम बताता है कि आप गर्भवती है या नहीं। यदि कोई अन्य समस्या होती है तो वो भी रक्त परीक्षण द्वारा पता चल जाती है।


    इस प्रकार 2 तरह के परीक्षण से गर्भ के बारे में पता लगाया जा सकता है।  मूत्र परीक्षण द्वारा और रक्त परीक्षण द्वारा । जिससे आप यह जान जाएंगी की आप गर्भवती है या नहीं।

     

    Content By Jananam

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना