--Advertisement--

विकार /पीसीओएस क्या है और यह प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करता है

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2019, 08:03 PM IST
पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या है जो महिला में प्रजनन की समस्या पैदा करती है। यह गर्भवती होने की संभावनाओं को कम करता है और अन्य जटिलताओं को बढ़ाता है। डॉक्टर से परामर्श और स्वस्थ जीवनशैली का पालन करने से पीसीओएस की समस्या को काफी हद तक ठीक करने में मदद मिल सकती है।

What is PCOS? How does it affect fertility?
X
What is PCOS? How does it affect fertility?

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2019, 08:03 PM IST

पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम या संक्षिप्त रूप मे पीसीओएस एक विकार है जो महिला सेक्स हार्मोन में असंतुलन का कारण बनता है। असंतुलन कई प्रकार के लक्षण पैदा कर सकता है और एक महिला की प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित कर सकता है।
 

  • जानिए, पीसीओएस प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करता है?

    जानिए, पीसीओएस प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करता है?
    • comment

    हर महीने महिलाओं में छोटे तरल पदार्थ से भरे सिस्ट जिन्हें फोलिकल कहते हैं, अंडाशय की सतह पर विकसित हो जाते है। इनमें से एक फोलिकल एक परिपक्व अंडे का उत्पादन करता है , जिसे अंडाशय से बाहर छोड़ा जाता है। एस्ट्रोजन समेत महिला के सेक्स हार्मोन अंडे को परिपक्व होने और फोलिकल के माध्यम से बाहर भेजने मे मदद करते हैं।

     

    पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम वाली महिलाओं के सेक्स हार्मोन में असंतुलन होता जाता है। यह असंतुलन परिपक्व अंडों को विक्सित होने से और बाहर जाने से रोक सकता है। एक परिपक्व अंडा के बिना, अंडाशय नहीं बन पाता है, जिससे माँ बनने मे मुश्किलें आती हैं।

    इस असंतुलन में टेस्टोस्टेरोन में असामान्य वृद्धि भी शामिल हो सकती है, जिसे मुख्य रूप से पुरुष यौन हार्मोन माना जाता है। हालांकि महिलाओं में भी टेस्टोस्टेरोन बनता है, मगर यह आमतौर पर छोटी मात्रा में उपस्थित होता है।

  • पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम के लक्षण क्या है

    पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम के लक्षण क्या है
    • comment

    पीसीओएस मे  सभी महिलाओं के समान लक्षण नहीं होते हैं। समय के साथ लक्षण भी बदल सकते हैं। पीसीओएस के कुछ सबसे आम लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हैं:

     

    1. चेहरे, छाती, या पीठ पर असामान्य बाल विकास
    2. मुँहासे
    3. वजन बढ़नावजन

       

    4. पुरुष पैटर्न में गंजापनगंजापन

       

    5. माँ ना बन पाना
    6. अनियमित माहवारी
    7. अंडाशय मे सिस्ट
    8. डिप्रेशन

  • पीसीओएस से होने वाली जटिलताएँ

    पीसीओएस से होने वाली जटिलताएँ
    • comment

    पीसीओएस विभिन्न जटिलताओं का कारण बन सकता है। माँ ना बन पाना अक्सर इन मुख्य जटिलताओं में से एक है, लेकिन यह केवल एकमात्र नहीं है। पीसीओएस के साथ कई स्थितियां जुड़ी हुई हैं, जिनमें कोलेस्ट्रॉल का उच्च स्तर और उच्च रक्तचाप भी शामिल है। इससे दिल का दौरा पड़ने का भी खतरा बना रहता है। इसके अलावा मधुमेह भी पीसीओएस से जुड़ा हुआ है। पीसीओएस के साथ महिलाओं में एंडोमेट्रियल कैंसर का खतरा भी बढ़ सकता है। इन जटिलताओं में केवल शारीरिक समस्याएं शामिल नहीं हैं। कभी-कभी पीसीओएस वाली महिलाएं अवसाद, चिंता और अत्यधिक तनाव की भी शिकार हो जाती हैं।

     

    • पीसीओएस से निपटते हुए प्रजनन क्षमता बढ़ाने के टिप्स

     

    गर्भवती होने की कोशिश कर रही महिलाएं को इसके प्रति सचेत होना चाहिए। आपकी डॉक्टर आपको कुछ दवाएं दे सकती हैं जो मासिक धर्म की अवधि को नियंत्रित करेगी और अंडाशय को ठीक से काम करने में सहयोग करेगी।

     

    ऐसे मामलों में जहां दवाओं से प्रजनन क्षमता में सुधार नहीं किया जा सकता, सर्जरी एक विकल्प हो सकता है। इसके अंतर्गत लैप्रोस्कोपिक डिम्बग्रंथि ड्रिलिंग नामक एक प्रक्रिया अपनाई जा सकती है।

     

    अधिक वजन वाली महिलाओं के लिए, वजन कम करना प्रजनन क्षमता बढ़ाने का एक तरीका है। वजन कम करने से हार्मोनल असंतुलन में सुधार हो सकता है और अंडाशय का सुचारु रूप से काम करने का मौका बढ़ सकता है। लगभग 5 प्रतिशत वजन घटाने से काफी मदद मिल सकती है।

     

    पीसीओएस मे महिलाएं को कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले आहार लेना चाहिए, जैसे टमाटर, पालक का साग, सारसो का साग, फूल गोभी, मूली, पत्ता गोभी, अमरूद, जो पीसीओएस के लक्षणों को कम कर सकता है और प्रजनन क्षमता में सुधार कर सकता है। एक कम ग्लाइसेमिक आहार रक्त शर्करा के स्तर को अधिक स्थिर बना सकता है। यह इंसुलिन के स्तर को कम करता है और टेस्टोस्टेरोन उत्पादन में भी गिरावट लता है।

     

    पीसीओएस महिलाओं में माँ ना बन पाने का एक प्रमुख कारण है। इसके अलावा भी यह कई अन्य स्वास्थ्य समस्याएं भी पैदा कर सकते हैं। मगर, ऐसी समस्याओं वाली अधिकांश महिलाओं का सफलतापूर्वक इलाज हो सकता है और वे गर्भवती हो सकती हैं।  इसके लिए जरुरी है कि आप सकारात्मक रहें और अपने डॉक्टर की सलाह लें। सही मार्गदर्शन आपको इन समस्याओं से छुटकारा दिला सकता है।

     

    Content by jananam

COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें