पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Dharm
  • Aaj Ka Jeevan Mantra By Pandit Vijayshankar Mehta, Life Management Tips About Good And Bad Habits, Story Of Mahavir Swami

आज का जीवन मंत्र:बुरी आदतों से बचें, अगर एक छोटी सी बुराई भी हमारे जीवन में आ गई तो सबकुछ बर्बाद हो सकता है

2 महीने पहलेलेखक: पं. विजयशंकर मेहता
  • कॉपी लिंक

कहानी - कुछ शिष्य महावीर स्वामी के पास पहुंचे और उन्होंने कहा, ‘आपके पास आने से पहले हम चर्चा कर रहे थे कि किसी भी साधक का पतन किस वजह से होता है? प्रमुख कारण क्या हैं और पतन कैसे होता है? हमने अपने-अपने विचार रखे, लेकिन कुछ सहमति नहीं बन पा रही है। इन प्रश्नों के स्पष्ट उत्तर हमें नहीं मिल पाए हैं। इसीलिए ये बातें आपसे पूछने आए हैं।’

महावीर स्वामी ने शिष्यों की बातें ध्यान से सुनी और कुछ देर सोचने के बाद कहा, ‘किसी भी साधक के पतन का मुख्य कारण उसके दुर्गुण हैं।’ ये बात समझाने के लिए उन्होंने अपना कमंडल दिखाया जो पूरी तरह से बंद था। शिष्यों से कहा, ‘इसे पानी में फेंक दो।’

शिष्यों ने कमंडल पानी में फेंक दिया। वह पानी में नहीं डूबा। तब स्वामीजी ने कहा, ‘अगर इस कमंडल में एक छेद कर देंगे तो क्या होगा?’

शिष्यों ने कहा, ‘छेद करने के बाद तो ये कमंडल पानी में डूब जाएगा।’

स्वामीजी बोले, ‘बस यही मनुष्य के पतन का कारण है। किसी इंसान के अंदर दुर्गुण का एक छेद भी हो जाए तो धीरे-धीरे जैसे कमंडल पानी में डूब जाता है, ठीक वैसे ही बुराइयों की वजह से मनुष्य का पतन हो जाएगा। चार छिद्र तो बहुत बड़े हैं- काम, क्रोध, लोभ और मद। इनसे बचना चाहिए।'

सीख - हमें हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि बुराइयों का छोटा सा भी अंश हमारे स्वभाव में न आए। ये दुर्गुण बहुत सुक्ष्म रूप में हमारे स्वभाव में आते हैं और हमारे जीवन रूपी कमंडल में छेद कर देते हैं, इसके बाद हम कोई ऐसा गलत काम कर देते हैं, जिससे पतन होगा, आलोचना होगी, दंड मिलेगा। इसीलिए दुर्गुणों के प्रति बहुत सतर्क रहना चाहिए।