पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आज का जीवन मंत्र:कोई हमारा अपमान करता है तो उसके अपशब्द न तो सुनें और न ही स्वीकार करें

17 दिन पहलेलेखक: पं. विजयशंकर मेहता
  • कॉपी लिंक

कहानी - गौतम बुद्ध के पास जो भी व्यक्ति जाता था, वह उनसे इतना प्रभावित हो जाता कि वह निर्णय ले लेता, अब इनकी सेवा में ही रहना है। एक बार ऐसा ही हुआ। एक प्रतिष्ठित व्यक्ति जब बुद्ध के पास गया तो वह उनकी बातें सुनकर भिक्षु हो गया। इसके बाद उस व्यक्ति के घर में हंगामा खड़ा हो गया।

प्रतिष्ठित व्यक्ति का एक रिश्तेदार इस बात से गुस्सा हो गया और वह बुद्ध के पास पहुंच गया। उस समय बुद्ध उपदेश दे रहे थे, वे एक पेड़ के नीचे बैठे हुए थे। बहुत शांत वातावरण था। गुस्से में व्यक्ति ने चिल्लाना शुरू कर दिया और वह बुद्ध को अपशब्द कहने लगा।

जो लोग बुद्ध के उपदेश सुनने के लिए बैठे हुए थे, वे बेचैन हो गए कि इससे अधिक गालियां अब हम नहीं सुन सकते और बुद्ध सुने चले जा रहे थे। गाली देने वाला व्यक्ति भी थोड़ी देर बाद थक गया। बुद्ध ने उससे पूछा, 'आपको जो कहना था, वह आप कह चुके?'

व्यक्ति ने कहा, 'हां, मैं कह चुका।'

बुद्ध बोले, 'जब आपके घर कोई मेहमान आता है तो आप क्या करते हैं?'

उस व्यक्ति ने जवाब दिया, 'हम मेहमान का स्वागत करते हैं, उसका सत्कार करते हैं। कोई नादान ही होगा जो अतिथि का सत्कार नहीं करेगा।'

बुद्ध ने फिर पूछा, 'आपके घर जो भी व्यक्ति आया है, आपने उसे कोई सेवा सौंपी और उसने स्वीकार नहीं की तो वह चीज कहां जाएगी?'

व्यक्ति ने कहा, 'वह चीज हमारे पास ही रह जाएगी।'

बुद्ध बोले, 'आप मेरे अतिथि की तरह हैं। आपने मुझे जो सौंपा है, वह मैंने स्वीकार ही नहीं किया है। जितने अपशब्द और गालियां आपने मुझे दीं, मैंने स्वीकार नहीं की तो वह किसके पास गईं? आप ही के पास गईं।' बुद्ध की बातें वह व्यक्ति समझ गया।

सीख - हमें भी ये समझना चाहिए कि अगर कोई व्यक्ति हमारा अपमान करे, कोई अपशब्द कहे तो उन बातों पर ध्यान ही नहीं देना चाहिए। ऐसी बातें स्वीकार ही न करें, क्योंकि अगर हम ऐसी बातें स्वीकार करेंगे तो हमें गुस्सा आएगा, मन अशांत हो जाएगा। सामने वाले व्यक्ति ने तो गुस्सा करके खुद का नुकसान कर ही लिया है और हम भी गुस्सा कर लेंगे तो हमारा भी नुकसान हो जाएगा।