• Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Dharm
  • Aaj Ka Jeevan Mantra By Pandit Vijayshankar Mehta, Story Of Mahatma Gandhi, Motivational Story About Success And Happiness

आज का जीवन मंत्र:धन से खुद के लिए सुख-सुविधाओं की चीजें खरीदें, लेकिन दूसरों की जरूरतों का भी ध्यान रखें

9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कहानी - महात्मा गांधी के पास एक दिन बहुत धनी सेठ पहुंचा। उसने बहुत बड़ी पगड़ी बांध रखी थी। गांधी जी तो टोपी भी नहीं पहनते थे।

धनी सेठ ने गांधी जी से कहा, 'बापू पूरे देश में आपके नाम से एक टोपी प्रसिद्ध है। बहुत लोग उस टोपी को पहनते हैं। उसे गांधी टोपी कहा जाता है। मजे की बात तो ये है बापू कि जिस गांधी के नाम से देशभर में टोपी चल रही है, वही गांधी नंगे सिर रहते हैं। ऐसा क्यों है?'

गांधी जी प्रश्नों के उत्तर बहुत मजाकिया अंदाज में दिया करते थे। उस समय वहां कई लोग बैठे हुए थे। सभी सोचने लगे कि अब गांधी जी इस सेठ को क्या उत्तर देंगे?

गांधी जी ने कहा, 'सेठजी, आपने जो पगड़ी पहनी है, वह इतनी बड़ी है कि इसमें से कम से कम 20 टोपियां बन सकती हैं। आप खुद सोचें, 20 लोगों की टोपी के कपड़े की पगड़ी आप पहने हुए हैं तो बचे हुए 19 लोगों को तो नंगे सिर ही रहना पड़ेगा। उन 19 लोगों में मैं भी एक हूं।'

सीख - गांधी जी ने उस सेठ के माध्यम से ये संदेश दिया है कि कुछ धनी लोग अपनी इच्छाएं पूरी करने के लिए समाज के अन्य लोगों के हक को ले लेते हैं। अगर किसी व्यक्ति के पास बहुत पैसा है तो भले ही वह अपनी इच्छाएं पूरी करे, अच्छे कपड़े पहने, सुख-सुविधा की चीजें खरीदे, लेकिन उसे समाज के गरीब और जरूरतमंद लोगों के सुख का भी ध्यान रखना चाहिए। अच्छे समाज में सभी को मिल-बांटकर रहना चाहिए, तभी श्रेष्ठ समाज का निर्माण होगा।