• Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Dharm
  • The Auspicious Coincidence Of Bhaumavasya: Mars And Pitrudosh Are Removed From Fasting Worship In The Yoga Of Ashadh Amavasya On Tuesday.

भौमावस्या का शुभ संयोग:मंगलवार को आषाढ़ अमावस्या के योग में व्रत-पूजा से दूर होते हैं मंगल और पितृदोष

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ज्योतिष ग्रंथों के मुताबिक मंगलवार को जब सूर्य और चंद्रमा एक ही राशि में या एक-दूसरे के पास वाली राशि में स्थित होते हैं तो भौमावस्या का योग बनता है। इस बार ये आषाढ़ मास की हलहारिणी अमावस्या पर 28 जून को बन रहा है। इस दिन मंगल अपनी ही राशि में रहेगा। जिससे इस पर्व का महत्व और भी बढ़ जाएगा।

भौमावस्या पर मंगल दोष की पूजा
पुरी के ज्योतिषाचार्य डॉ. गणेश मिश्र बताते हैं कि मंगलवार को पड़ने वाली इस अमावस्या पर पितरों की विशेष पूजा की जाए तो परिवार के रोग, शोक और दोष खत्म हो जाते हैं। मंगलवार को अमावस्या होने से इस दिन मंगल दोष से बचने के लिए व्रत और पूजा की जाती है। इस शुभ संयोग में गुड़ या शहद का दान करने से मंगल दोष में कमी आती है। इस योग में हनुमान जी की पूजा करने से भी मंगल दोष कम होता है।

शनिदेव अमावस्या के अधिपति
आषाढ़ मास की अमावस्या इस बार इसलिए खास है, चूंकि अमावस्या के अधिपति देवता खुद शनि है। इस दिन दान-पुण्य का कई गुना फल मिलता है। डॉ. मिश्र ने बताया कि अमावस्या के दिन शनि स्वराशि में अधिक बलवान रहेंगे। अमावस्या का दिन हो और शनि कुंभ राशि में हो तो वृद्ध और रोगियों की सेवा करना शुभ फलदायी रहेगा।

भौमावस्या पर दान से पुण्य
भौमवती अमावस्या के दिन स्नान-दान करने का खास महत्व है। इस दिन दान करना सर्वश्रेष्ठ माना गया है। देव ऋषि व्यास के अनुसार इस तिथि में स्नान और दान करने से हजार गायों के दान का पुण्य फल मिलता है। भौमवती अमावस्या पर हरिद्वार, काशी जैसे तीर्थ स्थलों और पवित्र नदियों पर स्नान करने का विशेष महत्व होता है, लेकिन ऐसा न कर पाए तो इस दिन घर पर ही पानी में गंगाजल मिलाकर नहाने से भी इसका पुण्य प्राप्त होता है।

स्नान-दान का महत्व
इस दिन गंगा और अन्य पवित्र नदियों में डूबकी लगाने का भी बहुत पुण्य माना गया है। इस स्थान पर भौमवती अमावस्या के दिन स्नान और दान करने से अक्षय फलों की प्राप्ति होती है। सूर्योदय से सुबह करीब 11.16 तक की अवधि में अमावस्या तिथि के दौरान स्नान और दान करने का खास महत्व है।

खबरें और भी हैं...