• Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Dharm
  • Four Tales Of Nanak Dev The Biggest Message Of Guru Nanak Sahib; God Is In Every Human Being, In Every Direction And Every Particle

नानक देव के चार किस्से:गुरु नानक साहिब का सबसे बड़ा संदेश; हर इंसान, हर दिशा और कण-कण में हैं ईश्वर

12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नानक साहिब ने ही समझाया ईश्वर के करीब जाने का आसान तरीका, उनकी ही देन है पवित्र गुरुग्रंथ साहिब के शुरुआती 940 दोहे

1499 ईस्वी में जब गुरु नानक देव जी 30 साल के हो गए थे, तब उनमें अध्यात्म परिपक्व हो चुका था। आज जिसे हम पवित्र गुरुग्रंथ साहिब के नाम से जानते हैं, उसके शुरुआती 940 दोहे इन्हीं की देन हैं। आदिग्रंथ की शुरुआत मूल मंत्र से होती है, जिसमें हमारा 'एक ओंकार' से साक्षात्कार होता है। मान्यता है कि गुरु नानक देव जी अपने समय के सारे धर्मग्रंथों से भली-भांति परिचित थे। उनकी सबसे बड़ी सीख थी- हर व्यक्ति में, हर दिशा में, हर जगह ईश्वर मौजूद है। जीवन के प्रति उनके नजरिए और सीख से जुड़े चार किस्से हैं जो ताजुद्दीन नक्शबंदी की लिखी 'बाबा नानक शाह फकीर' और डॉ. कुलदीप चंद की किताब 'श्री गुरु नानक देवजी' से लिए गए हैं।

ईश्वर हर दिशा में है... गुरु नानक जी ने एक नजीर से बता दिया- खुदा हर जगह हैं
मक्का पहुंचने से पहले नानक देव जी थककर आरामगाह में रुक गए। उन्होंने मक्का की ओर चरण किए थे। यह देखकर हाजियों की सेवा में लगा जियोन नाम का शख्स नाराज हो गया और बोला-आप मक्का मदीना की तरफ चरण करके क्यों लेटे हैं? नानक जी बोले- अगर तुम्हें अच्छा नहीं लग रहा, तो खुद ही चरण उधर कर दो, जिधर खुदा न हो। नानक जी ने जियोन को समझाया- हर दिशा में खुदा है। सच्चा साधक वही है जो अच्छे काम करता हुआ खुदा को हमेशा याद रखता है।

ईश्वर का ही सबकुछ है... ग्राहक को अनाज देते वक्त जाना अपना कुछ भी नहीं
गुरुनानक देवजी को आजीविका के लिए दूसरों के यहां काम भी करना पड़ा। बहनोई जैराम जी के जरिए वे सुल्तानपुर लोधी के नवाब के शाही भंडार की देखरेख करने लगे। उनका एक प्रसंग प्रचलित है। एक बार वे तराजू से अनाज तौलकर ग्राहक को दे रहे थे तो गिनते-गिनते जब 11, 12, 13 पर पहुंचे तो उन्हें कुछ अनुभूति हुई। वह तौलते जाते थे और 13 के बाद तेरा फिर तेरा और सब तेरा ही तेरा कहते गए। इस घटना के बाद वह मानने लगे थे कि जो कुछ है वह परमब्रह्म का है, मेरा क्या है?

ईश्वर हर व्यक्ति में है... बुरे लोगों को एक जगह रहने, अच्छों को फैलने का आशीर्वाद
नानक जी अपने शिष्य मरदाना के साथ कंगनवाल पहुंचे तो उन्होंने देखा कि कुछ लोग जनता को परेशान कर रहे हैं। नानक जी ने उन्हें आशीर्वाद दिया- बसते रहो। दूसरे गांव पहुंचे, तो अच्छे लोग दिखे। गांव वालों को नानक जी ने आशीर्वाद दिया- उजड़ जाओ। इस पर मरदाना को आश्चर्य हुआ। उसने पूछा-जिन्होंने अपशब्द कहे, उन्हें बसने का और जिन्होंने सत्कार किया, उन्हें आपने उजड़ने का वर दिया, ऐसा क्यों? नानक जी बोले- बुरे लोग एक जगह रहें, ताकि बुराई न फैले और अच्छे लोग फैलें ताकि अच्छाई का प्रसार हो।

ईश्वर हर कण में है... पश्चिम में अर्घ्य देकर कहा, पानी प्यासे खेतों तक जाएगा
नानक जी हरिद्वार गए, वहां लोगों को गंगा किनारे पूर्व में अर्घ्य देते देखा। नानक इसके उलट पश्चिम में जल देने लगे। लोगों ने पूछा- आप क्या कर रहे हैं? नानक जी ने पूछा, आप क्या कर रहे हैं? जवाब मिला, हम पूर्वजों को जल दे रहे हैं। नानक जी बोले-मैं पंजाब में खेतों को पानी दे रहा हूं। लोग बोले- इतनी दूर पानी खेतों तक कैसे जाएगा? इस पर नानक जी बोले- जब पानी पूर्वजों तक जा सकता है, तो यह खेतों तक क्यों नहीं जाएगा? मानों तो ईश्वर यहां मौजूद हर कण और हर व्यक्ति में है।

खबरें और भी हैं...