पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

21 दिसंबर को ग्रेट कंजक्शन:करीब 400 साल बाद आकाश में गुरु-शनि 0.1 डिग्री दूरी पर रहेंगे, 2020 के बाद 2080 में दिखेगा ऐसा नजारा

3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पश्चिम दिशा में गुरु-शनि धीरे-धीरे आएंगे करीब, रोज देख सकेंगे इन ग्रहों को

सोमवार, 21 दिसंबर को अद्भुत खगोलीय घटना होने जा रही है। इस दिन गुरु और शनि ग्रह एकदम करीब आ जाएंगे। इन दोनों के बीच बस 0.1 डिग्री की दूरी रहेगी। ये घटना ग्रेट कंजक्शन कहलाती है। 21 तारीख को साल की सबसे लंबी रात भी रहेगी।

भोपाल की विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने बताया कि वैसे तो हर 20 साल में गुरु और शनि करीब आते हैं, लेकिन इस बार इन ग्रहों के बीच की दूरी सिर्फ 0.1 डिग्री रहेगी। ऐसा करीब 400 सालों के बाद हो रहा है। इससे पहले 1623 में ये दोनों ग्रह इतने पास आए थे। इस साल के बाद 15 मार्च 2080 की रात गुरु-शनि इतनी पास दिखाई देंगे।

कैसे होता है ग्रेट कंजक्शन?

सौर मंडल का पांचवां ग्रह है गुरु (बृहस्पति) और शनि छठा ग्रह है। जूपिटर यानी गुरु ग्रह 11.86 साल में सूर्य की परिक्रमा करता है। शनि को करीब 29.5 साल सूर्य की परिक्रमा करने में लगते हैं। हर बार 19.6 साल में ये दोनों ग्रह करीब आते हैं, जिन्हें आकाश में आसानी से देखा जा सकता है। इस स्थिति को ही ग्रेट कंजक्शन कहा जाता है।

पिछला कंजक्शन 2000 में हुआ था। लेकिन, उस समय ये दोनों ग्रह सूर्य की ओर थे, इस वजह से दिखाई नहीं दिए थे। अगला कंजक्शन 5 नवंबर 2040 को, 10 अप्रैल 2060 को होगा। इसके बाद ग्रेट कंजक्शन 15 मार्च 2080 को दिखेगा।

कैसे पहचान सकते हैं इन दोनों ग्रहों को?

इन दिनों गुरु और शनि पश्चिम दिशा में दिखाई दे रहे हैं। सूर्य अस्त होने के बाद पश्चिम दिशा में दो ग्रहों की जोड़ी दिखाई दे रही है। इसमें ज्यादा चमकीला ग्रह जूपिटर है और कम चमकीला ग्रह सेटर्न है। ये दोनों ग्रह करीब 8 बजे अस्त हो जाते हैं यानी 8 बजे के बाद दिखाई नहीं देते हैं। इसीलिए इन्हें 8 बजे से पहले ही देखा जा सकता है। अब से 21 दिसंबर तक ये दोनों ग्रह रोज करीब आते दिखाई देंगे और 21 तारीख को गुरु-शनि एक साथ दिखेंगे।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

और पढ़ें