• Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Dharm
  • Jyeshtha Month Starting From 17 May, Navtapa Will Start From 25 May 25, Facts About Navtapa, Surya In Rohini Nakshtra

25 मई से सूर्य रोहिणी नक्षत्र में:17 मई से ज्येष्ठ माह और 25 मई से शुरू हो जाएगा नौतपा, इन दिनों जल दान जरूर करना चाहिए

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मंगलवार, 17 मई से हिन्दी पंचांग का तीसरा महीना ज्येष्ठ शुरू हो रहा है। ये महीना 14 जून तक रहेगा। ज्येष्ठ महीने में ही नौतपा रहता है। इस बार 25 मई से नौतपा शुरू होगा। नौतपा में गर्मी काफी अधिक रहती है। इन दिनों में जल दान करने का विशेष महत्व है। पशु-पक्षियों के लिए अन्न और जल की व्यवस्था भी करें। नौतपा में गर्मी अधिक रहती है तो स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना चाहिए। लापरवाही करने गर्मी से संबंधित बीमारियां हो सकती हैं।

ज्योतिषाचार्य पं. निलेश शास्त्री के मुताबिक सूर्य ग्रह जब रोहिणी नक्षत्र में आता है तो नौतपा शुरू हो जाता है। करीब 15 दिनों तक सूर्य रोहिण नक्षत्र में ही रहता है। शुरू के नौ दिन नौतपा रहता है। इस बार 25 मई से नौतपा शुरू होगा जो कि 2 जून तक चलेगा।

ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की दशमी बुधवार, 25 मई की दोपहर में सूर्य रोहिणी नक्षत्र के प्रथम चरण में प्रवेश करेगा। उस समय सूर्य का वृषभ राशि में बुध ग्रह के साथ योग बनेगा। रोहिणी नक्षत्र का स्वामी चंद्र माना जाता है। ज्येष्ठ मास में गर्मी की अधिकता रहेगी, साथ ही हल्की बारिश आने की भी संभावना है। ऐसा माना जाता है कि नौतपा में गर्मी अधिक रहती है तो बारिश अच्छी होती है।

नौतपा में ऐसी रहेगी ग्रहों की स्थिति

नौतपा आरंभ होने के पहले मेष राशि में राहु-शुक्र की युति, वृषभ राशि में सूर्य-बुध की युति, मीन राशि में मंगल-चंद्र और गुरु की युति रहेगी। कुंभ राशि में शनि रहेगा। केतु तुला राशि में रहेगा। राहु-शुक्र की केतु पर दृष्टि रहेगी। 26 मई की रात चंद्र का राशि परिवर्तन होगा और मीन राशि की तीन ग्रहों की युति समाप्त हो जाएगी।

नौतपा की खास तिथियां

नौतपा के दिनों में 26 मई को अपरा एकादशी रहेगी। 27 मई को मधुसूदन द्वादशी प्रदोष व्रत, 29 और 30 मई को अमावस्या रहेगी। इन दिनों में व्रत-उपवास और पूजा-पाठ के साथ ही जल दान भी जरूर करें।

ज्येष्ठ मास में मंदिरो में ठाकुर जी यानी बाल गोपाल को कपूर-चंदन का लेपन किया जाता है ताकि भगवान को शीतलता मिलती रहे।