पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Dharm
  • Kharmas Sart Date Month 16 December To 14 January 2021; What Is Kharmas? Do's And Don'ts, History, Significance And More

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खरमास 16 दिसंबर से 14 जनवरी तक:पुण्य और समृद्धि के लिए इस महीने विष्णु पूजा के साथ अन्नदान की भी परंपरा

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हर साल मकर संक्रांति तक रहता है खरमास, इस महीने में नहीं किए जाते मांगलिक काम

सूर्य के धनु राशि में आते ही खरमास की शुरुआत हो जाती है। इसे धनु संक्रांति भी कहा जाता है। हिंदू धर्म की पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक खरमास में किसी भी तरह के मांगलिक-शुभ काम नहीं करने चाहिए। काशी के ज्योतिषाचार्य पं. गणेश मिश्र बताते हैं कि इस साल 16 दिसंबर को सुबह 6:49 पर सूर्य धनु राशि में प्रवेश कर रहे हैं। इसलिए 16 दिसंबर से14 जनवरी 2021 तक धनु संक्रांति होने से खरमास दोष रहेगा।

करें भगवान विष्णु का पूजन
खरमास के प्रतिनिधि आराध्य देव भगवान विष्णु हैं, इसलिए इस माह के दौरान भगवान विष्णु की पूजा नियमित रूप से करना चाहिए। साथ ही विष्णु एवं शालिग्राम का पंचामृत से अभिषेक करना चाहिए। भगवान को साज-सज्जा से सुसज्जित कर उन्हें विशेष पकवानों का भोग लगाना चाहिए। प्रभु का नाम स्तवन कर कीर्तन तथा ‘ओम नमो भगवते वासुदेवाय’ इस मंत्र का प्रतिदिन जप करना चाहिए। तीर्थ में जाकर दान स्नान तथा सूर्य अर्घदेना चाहिए। इस मास में तुलसी की पूजा का भी अधिक महत्व माना गया है। प्रातः जल्दी उठकर तुलसी में दीपक एवं जल से पूजन करना चाहिए और तुलसी की माला से ही भगवान विष्णु के मंत्र का जाप करना चाहिए।

मकर संक्रांति पर होगा खत्म
सूर्य एक माह बाद मकर राशि में प्रवेश करेगा। इस खास दिन को मकर संक्रांति पर्व मनाया जाता है। मकर संक्रांति देवताओं की मध्य रात्रि होती है। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करके दान किया जाता है। इस दिन से उत्तरायण प्रारंभ होता है। विवाह समेत समस्त शुभ कार्य इस दिन से प्रारंभ हो जाते हैं।

क्या करना चाहिए खरमास में
सूर्योदय से पहले स्नान, संध्या करके भगवान का स्मरण करें। खरमास में सूर्यदेव की उपासना करनी चाहिए। यह महाधर्म, दान, जप, तप का महीना माना जाता है। इसमें अनेक गुणों के साथ लाभ प्राप्त होता है। कर्ता को करने का कई गुना फल प्राप्त होता है। खरमास में ब्राह्मण, गुरु, गाय एवं साधु-सन्यांसियों की सेवा करनी चाहिए।

दान का महत्व
खरमास महीने में सुबह उठकर स्नान करना चाहिए। इसके बाद सूर्यदेव की उपासना करनी चाहिए। ऐसा भी माना गया है कि खरमास में दान-पुण्य करने से पुण्य की प्राप्ति होती है, इसलिए इस महीने जरूरतमंद लोगों को भोजन कराना चाहिए।

जरूरतमंदों को उनकी आवश्यकता अनुसार जरूरी चीजें भी बांटी जा सकती है। अगहन महीने में अन्न के साथ ही वस्त्र दान भी किया जा सकता है। खरमास में गौ पूजन व गौ संवर्धन करने से भगवान श्रीकृष्ण का आशीर्वाद प्राप्त होता है। घर में सुख-समृद्धि का आगमन होता है। भविष्य में किसी भी प्रकार के कार्य में सफलता मिलती है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें