• Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Dharm
  • Kharmas Will Start After Two Days, On The Night Of December 15, The Sun Will Change The Zodiac, But On The 16th, Dhanurmas Will Start From Sunrise.

कल से शुरू होगा खरमास:15 दिसंबर की रात को सूर्य बदलेगा राशि लेकिन 16 को सूर्योदय से शुरू होगा धनुर्मास

5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

15 दिसंबर की रात तकरीबन 3:58 पर सूर्य धनु राशि में प्रवेश करेगा। रात में धनु संक्रांति होने के कारण 16 दिसंबर से खरमास शुरू हो जाएगा। जो कि 14 जनवरी 2022 तक रहेगा। हिंदू धर्म की पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक खरमास में किसी भी तरह के मांगलिक-शुभ काम नहीं करने चाहिए। वहीं इस एक महीने में सूर्य और बृहस्पति के योग में स्नान-दान और सूर्य पूजा करने का विधान बताया गया है।

मकर संक्रांति पर होगा खत्म
सूर्य एक माह बाद मकर राशि में प्रवेश करेगा। इस खास दिन को मकर संक्रांति पर्व मनाया जाता है। मकर संक्रांति देवताओं की मध्य रात्रि होती है। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करके दान किया जाता है। इस दिन से उत्तरायण प्रारंभ होता है। विवाह समेत समस्त शुभ कार्य इस दिन से प्रारंभ हो जाते हैं।

क्या करना चाहिए खरमास में
सूर्योदय से पहले स्नान, संध्या करके भगवान का स्मरण करें। खरमास में सूर्यदेव की उपासना करनी चाहिए। यह महाधर्म, दान, जप, तप का महीना माना जाता है। इसमें अनेक गुणों के साथ लाभ प्राप्त होता है। कर्ता को करने का कई गुना फल प्राप्त होता है। खरमास में ब्राह्मण, गुरु, गाय एवं साधु-सन्यांसियों की सेवा करनी चाहिए।

दान का महत्व
खरमास महीने में सूर्योदय से पहले उठकर तीर्थ स्नान करना चाहिए। इस मास में उगते हुए सूरज को जल चढ़ाना चाहिए। सूर्यदेव की उपासना करनी चाहिए। ऐसा भी माना गया है कि खरमास में दान करने से पुण्य मिलता है। इसलिए इस महीने जरूरतमंद लोगों को भोजन कराना चाहिए।

इस महीने में लोगों को आवश्यकता के मुताबिक जरूरी चीजें भी बांटी जा सकती है। अगहन महीने में अन्न के साथ ही वस्त्र दान भी किया जा सकता है। खरमास में गौ पूजन और गायों की सेवा करने से भगवान श्रीकृष्ण का आशीर्वाद मिलता है। इससे घर में सुख-समृद्धि बढ़ती है और भविष्य में हर तरह की सफलता मिलती है।

खबरें और भी हैं...