लक्ष्मी पूजा पर्व:पौष मास के मंगलवार को भगवान विष्णु ने की थी लक्ष्मी पूजा, इस महीने की जाती है देवी के पद्मा रूप की पूजा

18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पौष महीना 20 दिसंबर को शुरू हुआ था जो अब 17 जनवरी तक रहेगा। इस महीने में सूर्य और भगवान विष्णु की उपासना के साथ ही लक्ष्मी पूजा का भी विशेष महत्व है। पुरी और काशी के विद्वानों का कहना है कि इस महीने में भगवान विष्णु ने देवी लक्ष्मी की पूजा की थी। इसलिए पौष महीने में लक्ष्मी पूजा करने से समृद्धि और सुख बढ़ता है। परेशानियां भी दूर होती हैं। इस महीने में सभी लोक में लक्ष्मीजी की पूजा की जाती है।

देवी लक्ष्मी के पद्मा रूप की पूजा
पुरी के ज्योतिषाचार्य डॉ. गणेश मिश्र का कहना है कि इस महीने सूर्य के साथ देवी लक्ष्मी और कुबेर की उपासना भी विशेष फलदायी मानी जाती है। इस महीने के शुक्लपक्ष में सुबह जल्दी और शाम को प्रदोष काल में यानी सूर्यास्त के वक्त कमल के फूल पर बैठी लक्ष्मीजी के पद्मा रूप की पूजा करने का विधान बताया गया है। ऐसा करने से स्थिर लक्ष्मी और अचल संपत्ति प्राप्त होती है। इस तरह लक्ष्मीजी की पूजा करने वाले को जीवनभर पैसों और सुख की कमी नहीं रहती है।

पौष महीने में लक्ष्मी महोत्सव
ब्रह्मवैवर्त पुराण के प्रकृतिखंड में बताया गया है कि चैत्र, पौष और भाद्रपद महीने के मंगलवार को भगवान विष्णु ने लक्ष्मी पूजा की। इस तरह देवी लक्ष्मी पूजा का महोत्सव तीनों लोक में शुरू हो गया। साथ ही पौष महीने की संक्रांति पर राजा मनु ने लक्ष्मीजी की मूर्ति में प्राण प्रतिष्ठा के साथ देवी का आव्हान किया। तब से तीनों लोकों में लक्ष्मी पूजा महोत्सव शुरू हो गया। इसी पुराण में कहा गया है कि पौष महीने के शुक्लपक्ष में रात को देवी लक्ष्मी की पूजा और दर्शन करने से हर तरह का सुख मिलता है।

कमल के फूलों से लक्ष्मी पूजा
काशी विद्वत परिषद के महामंत्री प्रो. रामनारायण द्विवेदी बताते हैं कि पौष महीने के शुक्लपक्ष में केसर, चंदन, अक्षत और कमल के फूलों से देवी लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए। साथ ही गाय के घी का दीपक लगाना चाहिए। लक्ष्मीजी के साथ भगवान विष्णु की पूजा भी करनी चाहिए। ऐसा करने से हर तरह की परेशानियां दूर होने लगती हैं। सुख और समृद्धि बढ़ती है। महिलाओं का सौभाग्य भी बढ़ता है।

जरुरतमंदों को दान
देवी लक्ष्मी की प्रसन्नता के लिए पौष महीने में गुड़, तिल, चावल, खीर, केसर, हल्दी, नमक और जरुरतमंद लोगों को गर्म कपड़ों का दान करना चाहिए। इन दिनों में अन्नदान करने का भी बहुत महत्व बताया गया है। इन चीजों का दान करने से कभी न खत्म होने वाला पुण्य मिलता है। साथ ही गाय की विशेष पूजा करने से भी देवी लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।

खबरें और भी हैं...