पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

महाभारत:ताकत के साथ विनम्रता भी होनी चाहिए और कभी किसी को कमजोर न समझें, वरना घर-परिवार और समाज में नहीं मिल पाता है मान-सम्मान

8 महीने पहले
  • पांडव द्रौपदी के साथ रह रहे थे वनवास में, एक द्रौपदी ने भीम से सुगंधित फूल लाने के लिए कहा, तभी भीम को रास्ते में दिखाई दिया एक वृद्ध वानर

महाभारत में जब पांडवों का वनवास चल रहा था, तब पांचों भाई और द्रौपदी जंगलों में भटक रहे थे। इस दौरान वे कैलाश पर्वत के जंगलों में पहुंच गए। उस समय यक्षों के राजा कुबेर का निवास भी कैलाश पर्वत पर ही था। कुबेर के नगर में एक सरोवर था, जिसमें सुगंधित फूल थे। द्रौपदी को उन फूलों की महक आई तो उसने भीम से कहा कि उसे ये फूल चाहिए। भीम द्रौपदी के लिए फूल लाने चल दिए।

रास्ते में भीम ने देखा एक वानर रास्ते पर पूंछ फैलाकर सो रहा है। किसी जीव को लांघकर आगे बढ़ जाना मर्यादा के विरुद्ध था। इसलिए, भीम ने वानर से कहा आप अपनी पूंछ हटा लो। मुझे यहां से जाना है। बंदर ने नहीं सुना, भीम को क्रोध आ गया। उसने कहा कि तुम जानते हो मैं महाबली भीम हूं। वानर ने कहा कि इतने शक्तिशाली हो तो तुम खुद ही मेरी पूंछ रास्ते से हटा दो और चले जाओ।

भीम पूंछ हटाने के लिए कोशिश करने लगा, लेकिन पूंछ टस से मस नहीं हुई। तब भीम ने हार मान ली। वह वानर से प्रार्थना करने लगा। तब वानर ने अपना असली रूप दिखाया। वे स्वयं पवनपुत्र हनुमानजी थे। उन्होंने भीम को समझाया कि कभी किसी को कमजोर नहीं समझना चाहिए। कभी भी अपनी शक्ति पर इस तरह घंमड नहीं करना चाहिए। ताकत और विनम्रता ऐसे गुण हैं जो विपरीत स्वभाव के होते हैं, लेकिन अगर ये एक ही स्थान पर आ जाएं तो व्यक्ति महान हो जाता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें