पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Dharm
  • Mesha Sankranti 2021 Hindu Teej Tyohar 2021| Sun Planet In Aries Sign (Mesha Rashi), Mesha Sankranti Vrat Katha Story Importance And Significance

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मेष संक्रांति 14 अप्रैल को:इस दिन सूर्य करेगा अपनी उच्च राशि में प्रवेश, खरमास खत्म होने से शुरू होंगे मांगलिक काम

25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • ज्योतिषीयों के मुताबिक मेष संक्रांति होती है सोलर कैलेंडर का पहला दिन, इस दिन सूर्य पूजा और स्नान-दान की परंपरा है

हिंदू नववर्ष का पहला संक्रांति पर्व 14 अप्रैल, बुधवार को मनाया जाएगा। इस दिन सूर्य की चाल में बदलाव होगा। ये ग्रह अपनी उच्च राशि यानी मेष में आ जाएगा। इसलिए इसे मेष संक्रांति पर्व कहा जाता है। ज्योतिष ग्रंथों में इसे विषुव संक्रांति भी कहते हैं। सौर मास (सोलर कैलेंडर) को मानने वाले लोग इसी दिन को नववर्ष की शुरुआत के रूप में मनाते हैं। मेष संक्रांति से हर तरह के शुभ और मांगलिक कामों की शुरुआत हो जाती है।

स्नान दान के लिए तकरीबन 6 घंटे रहेगा पुण्यकाल
इस दिन भगवान सूर्य की पूजा के साथ ही तीर्थ स्नान और दान करने की परंपरा है। इसके लिए पुण्यकाल सूर्योदय से शुरू हो जाएगा और दोपहर तकरीबन 12.22 तक रहेगा। इस मौके पर भगवान सूर्य की विशेष पूजा करनी चाहिए। 14 अप्रैल, बुधवार को सूरज उगने से पहले उठने के बाद तीर्थ के जल से नहाएं और फिर सूर्य को जल चढ़ाएं। इसके लिए तांबे के लोटे का इस्तेमाल करें। लोटे में शुद्ध जल भरकर उसमें चावल, लाल चंदन और लाल फूल डालकर सूर्य को अर्घ्य दें। जल चढ़ाने के बाद श्रद्धा अनुसार अन्न, जल, कपड़े और अन्य चीजों के दान का संकल्प लेना चाहिए और फिर दान करना चाहिए।

शुभ कामों की शुरुआत
पिछले एक महीने से मीन संक्रांति से खरमास होने के कारण मांगलिक कामों पर रोक लगी हुई थी। अब 14 अप्रैल को सूर्य के मेष राशि में आने से खरमास खत्म हो जाएगा। जिससे शुभ कामों की शुरुआत हो जाएगी। 14 अप्रैल से ही सभी शुभ काम शुरू हो जाएंगे, लेकिन विवाह के लिए शुभ मुहूर्त 22 अप्रैल को रहेगा। इसके बाद शादियों का दौर शुरू हो जाएगा।

मेष संक्रांति का महत्व
हिन्दू धर्म में संक्रांति का बहुत ज्यादा महत्व होता है। धर्म ग्रंथों में इसे पर्व कहा जाता है। इस दिन खरमास खत्म हो जाता है इसलिए इसे मांगलिक कामों की शुरुआत का दिन कहा जाता है। साथ ही पवित्र नदियों में नहाने क साथ दान का भी इसे बड़ा पर्व माना जाता है।

इन चीजों का करें दान
मेष संक्रांति पर जरूरतमंद लोगों को खाने-पीने की चीजों का दान करना चाहिए। इस दिन कपड़े और जूते-चप्पल भी दान करें। वहीं, गाय को घास भी खिलानी चाहिए। सूर्य पूजा के इस पर्व पर सूर्य से संबंधित चीजें जैसे तांबे का बर्तन, लाल कपड़े, गेहूं, गुड़, लाल चंदन आदि का दान करें। इस दिन अपनी श्रद्धानुसार इन में से किसी भी चीज का दान किया जा सकता है। इस दिन खाने में नमक का इस्तेमाल भी करना चाहिए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- सकारात्मक बने रहने के लिए कुछ धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करना उचित रहेगा। घर के रखरखाव तथा साफ-सफाई संबंधी कार्यों में भी व्यस्तता रहेगी। किसी विशेष लक्ष्य को हासिल करने ...

    और पढ़ें