पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Dharm
  • Paush Purnima On 28th; For Bathing Donations, From Sunrise To Sunset, There Will Be Auspicious Time, 3 Big Auspicious Yoga Will Also Be Done On This Day.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पर्व:पौष पूर्णिमा 28 को; स्नान-दान के लिए सूर्योदय से सूर्यास्त तक पुण्यकाल, 3 बड़े शुभ योग भी रहेंगे इस दिन

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पौष पूर्णिमा पर बन रहे हैं सर्वार्थसिद्धि, अमृतसिद्धि और गुरु पुष्य योग, प्रॉपर्टी खरीदी और रियल एस्टेट में निवेश का विशेष मुहूर्त भी

गुरुवार, 28 जनवरी को पौष महीने की पूर्णिमा है। हिंदू धर्म में इसका बहुत ही महत्व है। मोक्ष की कामना रखने वाले लोगों के लिए ये दिन बहुत ही खास माना जाता है। पुराणों में जिक्र मिलता है कि पौष महीने की पूर्णिमा मोक्ष देती है। ग्रंथों के मुताबिक, पौष महीने के दौरान पूरे महीने ध्यान और पूजा-पाठ से जो आध्यात्मिक ऊर्जा मिलती है, उसकी पूर्णता पौष पूर्णिमा के स्नान से हो जाती है। इस दिन काशी, प्रयाग और हरिद्वार में स्नान करने का विशेष महत्व बताया गया है। इस दिन शाकंभरी जयंती मनाई जाती है। वहीं, छत्तीसगढ़ के गांवों में रहने वाली जनजातियां पौष पूर्णिमा के दिन छेरता पर्व मनाती हैं।​​​​​​​
​​​​​​​
कब से कब तक रहेगी पूर्णिमा
इस बार पूर्णिमा 28 जनवरी को रात तकरीबन 1.30 से ही शुरू हो रही है। इसके बाद 29 जनवरी की रात 12.45 तक रहेगी। लिहाजा स्नान, पूजन और दान के लिए 28 जनवरी को ही पुण्यकाल माना जाएगा। जो कि सुबह सूर्योदय से सूर्यास्त तक रहेगा।

तीर्थ स्नान का महत्व
पौष माह की पूर्णिमा पर सूर्योदय से पहले उठना चाहिए। इसके बाद तीर्थ या पवित्र नदियों में स्नान करना चाहिए। ऐसा संभव न हो तो घर पर ही पानी में गंगाजल मिलाकर नहाना चाहिए। इसके बाद पूरे दिन व्रत और दान का संकल्प लेना चाहिए। फिर किसी तीर्थ पर जाकर नदी की पूजा करनी चाहिए। पौष माह की पूर्णिमा तिथि पर पवित्र नदियों और तीर्थ स्थानों पर पर स्नान करने का महत्व बताया गया है। नदी पूजा और स्नान करने से मोक्ष प्राप्त होता है।

पौष पूर्णिमा पर माघ स्नान का संकल्प
शास्त्रों के अनुसार पौष पूर्णिमा को माघ स्नान का संकल्प ले लेना चाहिए। तीर्थ स्नान के दौरान संकल्प करके भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए। इसके साथ ही संभव हो तो एक समय भोजन का व्रत भी करना चाहिए। जिस प्रकार पौष मास में तीर्थ स्नान का बहुत महत्व है, उसी प्रकार माघ में भी स्नान और दान का भी विशेष महत्व होता है। माघ में दान में तिल, गुड़ और कंबल या ऊनी वस्त्र दान देने से विशेष पुण्य प्राप्त होता है।

सर्वार्थसिद्धि सहित 3 शुभ योग
पौष महीने की पूर्णिमा पर 3 बड़े शुभ योग बन रहे हैं। इनमें सर्वार्थसिद्धि, अमृतसिद्धि और गुरु पुष्य योग बन रहे हैं। इन शुभ योगों में खरीदारी और बड़े कामों की शुरुआत करने से सफलता मिलती है। इस दिन प्रॉपर्टी खरीदी और रियल एस्टेट में निवेश के लिए विशेष मुहूर्त है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी विशिष्ट कार्य को पूरा करने में आपकी मेहनत आज कामयाब होगी। समय में सकारात्मक परिवर्तन आ रहा है। घर और समाज में भी आपके योगदान व काम की सराहना होगी। नेगेटिव- किसी नजदीकी संबंधी की वजह स...

    और पढ़ें