पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रहीम के दोहे:अच्छे लोग सौ बार रुठ जाए तो उन्हें हर बार मना लेना चाहिए, सज्जन व्यक्ति बुरे लोगों की संगत में भी अच्छा ही रहता है

3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मुगल बादशाह अकबर के करीबी थे रहीम, इनके दोहों में छिपे हैं सुखी जीवन के सूत्र

मुगल बादशाह अकबर के करीबियों में रहीम भी शामिल थे। रहीम द्वारा लिखे गए दोहों में जीवन को सुखी और सफल बनाने के सूत्र छिपे हैं। मुगल बादशाह हुमायुं की मृत्यु उस समय हो गई थी जब जलाल यानी अकबर बहुत छोटा था। हुमायुं के बाद बैरमखां ने मुगल सल्तनत और अकबर का ध्यान रखा। बैरमखां की मृत्यु के बाद उसकी बेगम सुल्ताना और पुत्र रहीम का ध्यान अकबर ने रखा था।

रहीम का पूरा नाम अब्दुल रहीम खान-ए-खाना था। रहीम का जन्म करीब 1556 में हुआ था और मृत्यु 1627 के आसपास हुई थी। उन्होंने अपने दोहों में उदाहरण के लिए महाभारत, रामायण के प्रसंगों का भी उल्लेख किया था।

जानिए रहीम के कुछ खास दोहे...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- रचनात्मक तथा धार्मिक क्रियाकलापों के प्रति रुझान रहेगा। किसी मित्र की मुसीबत के समय में आप उसका सहयोग करेंगे, जिससे आपको आत्मिक खुशी प्राप्त होगी। चुनौतियों को स्वीकार करना आपके लिए उन्नति के...

और पढ़ें