पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्रेरक कथा:एक व्यक्ति ने संत से कहा कि मैं बहुत दुखी हूं, संत ने उसे ध्यान करने की सलाह दी, लेकिन ध्यान से भी अशांति दूर नहीं हुई

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • क्रोध और घमंड जैसी बुराइयां हमारे मन को शांत नहीं होने देती हैं, इनसे बचना चाहिए

एक लोक कथा के अनुसार पुराने समय में एक व्यापारी के पास बहुत धन-संपत्ति और सभी तरह की सुख-सुविधाएं थीं, लेकिन उसका मन हमेशा अशांत ही रहता था। हर समय वह तनाव में रहता था। व्यापार के लिए एक गांव से दूसरे गांव यात्रा करता था। एक दिन यात्रा करते समय उसे एक आश्रम दिखाई दिया। वह आश्रम में गया। वहां एक संत अकेले रहते थे। व्यापारी ने संत को प्रणाम किया और अपनी परेशानियां बताईं।

संत ने कहा कि तुम्हें शांति चाहिए तो तुम कुछ देर यहां बैठकर ध्यान करो। व्यक्ति ने ध्यान लगाने कि कोशिश की, लेकिन वह ध्यान नहीं लगा पा रहा था। उसके मन में इधर-उधर की बातें घूम रही थीं। बहुत कोशिश के बाद भी वह ध्यान नहीं लगा सका। तब उसने संत से कहा कि वह ध्यान नहीं लगा सकता।

संत ने उससे कहा कि ठीक है चलो मेरे साथ, कुछ देर आश्रम में घूमते हैं। व्यापारी संत के साथ चल दिया। आश्रम में वह एक पेड़ को हाथ लगा रहा था, तभी उसके हाथ में एक कांटा चुभ गया। कांटे की चुभन की वजह से उसे दर्द हो रहा था। संत तुरंत ही आश्रम से एक लेप लेकर आए और उन्होंने व्यक्ति के हाथ पर लगा दिया।

संत ने व्यापारी से कहा कि जिस तरह कांटा चुभने से दर्द हो रहा है, ठीक उसी तरह तुम्हारे मन में भी क्रोध, अहंकार, ईर्ष्या, लालच जैसे कांटे चुभे हुए हैं। जब तक इन कांटों को निकालेगे नहीं, तुम्हें शांति नहीं मिल पाएगी।

व्यापारी को संत की बात समझ आ गई और वह उनका शिष्य बन गया। इसके बाद उसने धीरे-धीरे अपनी इन बुराइयों को दूर कर लिया। अपने धन का उपयोग उसने समाज कल्याण में करना शुरू कर दिया। कुछ ही दिनों में उसकी अशांति दूर हो गई।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर विजय भी हासिल करने में सक्षम रहेंगे। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से ...

और पढ़ें