समीक्षा:आर्ट ऑफ लिविंग स्वामी पूर्णचैतन्य की हमारे समय के लिए ध्यान की कला पर बेहतरीन किताब है 'लुकिंग इनवर्ड'

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आर्ट ऑफ लिविंग के स्वामी पूर्णचैतन्य विश्व में अनेक लोगों के लिए एक लेखक, वक्ता और आध्यात्मिक मार्गदर्शक हैं। वह योग, ध्यान और मंत्रों के एक लोकप्रिय शिक्षक और अपनी गर्मजोशी व भावपूर्ण उपस्थिति के कारण एक प्रभावशाली कथावाचक हैं। स्वामीजी का जन्म नीदरलैंड में एक डच पिता और एक भारतीय मां के घर हुआ था, जिन्होंने उन्हें पूर्व की आध्यात्मिक प्रथाओं, संस्कृति और दर्शन में गहरी रुचि जगाने में केंद्रीय भूमिका निभाई । उनके जीवन में निर्णायक क्षण सोलह वर्ष की आयु में आया, जब वे आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक गुरुदेव श्री श्री रविशंकर से मिले, जिनमें उन्होंने अपने आध्यात्मिक गुरु को पहचाना।

संस्कृत में विशेषज्ञता के साथ इंडोलॉजी में अपनी विश्वविद्यालय की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने नीदरलैंड छोड़ दिया और वैदिक ज्ञान, अनुष्ठानों, मंत्रों और वैदिक स्तोत्रों के पाठ में महारत हासिल करने के लिए आर्ट ऑफ लिविंग इंटरनेशनल सेंटर बेंगलुरु, भारत चले आये। उन्होंने अपनी उच्च चेतना व दूसरों की सेवा में अपना जीवन समर्पित करने की प्रतिबद्धता के रूप में स्वामी की उपाधि प्राप्त की। पूर्ण चैतन्य उनके गुरु द्वारा दिया गया नाम है, जिसका अर्थ है जिसकी चेतना पूरी तरह से खिल गई है।

स्वामी पूर्णचैतन्य द्वारा लिखित 'लुकिंग इनवर्ड: मेडिटेशन टू सर्वाइव इन ए चेंजिंग वर्ल्ड' शीर्षक वाली यह पुस्तक, एक अच्छी तरह से यात्रा करने वाले इंडो-डच योगी और आर्ट ऑफ लिविंग के ध्यान शिक्षक, धैर्यपूर्वक, प्यार से और उत्सुकता से कई सवालों और शंकाओं के माध्यम से ले जाती है। यदि आप ध्यान के बारे में अधिक जानना चाहते है, तो यह एक बहुत अच्छी स्टडी है। कई मनोवैज्ञानिक शारीरिक लाभों पर गहरे तक वैज्ञानिक तौर पर जाने के लिए, जीवन को गहरे और सशक्त तरीके से कैसे प्रभावित कर सकता है, यह समझने के लिए बहुत सटीक किताब है।

ध्यान एक ऐसी प्रक्रिया है, जो इतनी सूक्ष्म, इतनी अनुभवात्मक है, कि इसके बारे में शब्दों में लिखना एक बडी चुनौती हो सकती है। फिर इसे शैक्षणिक, सरल, रिलेवेंट और आकर्षक बनाना वास्तव में कई पायदान ऊपर छलांग लगाना है। ध्यान से जुडे पूर्वाग्रहों, आशंकाओं और अनिच्छा को दूर करने और पाठक को आकर्षित करने के लिए, चाहे वह पहली बार का खोजकर्ता हो या अनुभवी अभ्यासी, सबके लिए बहुत कुछ कंटेंट इस किताब में है।

स्वामी पूर्णचैतन्य, वास्तव में, ध्यान के जानकार और एक आकर्षक कहानीकार होने के दोहरे गुणों से संपन्न हैं। एक वक्ता, दुनिया भर में कई लोगों के लिए आध्यात्मिक मार्गदर्शक, योग, ध्यान और मंत्रों के शिक्षक है। वे किताब में चीजों को रोमांचक उदाहरण और व्यक्तिगत अनुभव के साथ बताते हैं।

"लुकिंग इनवर्ड", वास्तव में, रोमांचक और बहुत आवश्यक यात्रा पर हमारा मार्गदर्शन करने वाली पुस्तक है।

खबरें और भी हैं...