• Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Dharm
  • Tilkund Chaturthi On 25 January, Worship Lord Ganesha, Mercury And Goddess Durga, Donate Kale Till And Moong Dal

गुप्त नवरात्रि, तिलकुंद चतुर्थी और बुधवार का योग:25 जनवरी को करें गणेश जी, देवी दुर्गा के साथ बुध ग्रह की पूजा, तिल और मूंग का करें दान

11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बुधवार, 25 जनवरी को माघ मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी है। इसे तिलकुंड चतुर्थी कहा जाता है। अभी माघ मास की गुप्त नवरात्रि भी चल रही है। देवी दुर्गा के महापर्व, तिलकुंड चतुर्थी और बुधवार के योग में गणेश जी, देवी मां और बुध ग्रह की पूजा जरूर करें। ऐसा करने से कुंडली के ग्रह दोष दूर हो सकते हैं।

उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के मुताबिक, बुधवार का कारक ग्रह बुध है। ज्योतिष में बुध को ग्रहों का राजकुमार माना जाता है, ये ग्रह मिथुन और कन्या राशि का स्वामी है। कुंडली में बुध की स्थिति अच्छी हो तो व्यक्ति बुद्धि, पढ़ाई-लिखाई से संबंधित कामों में खास लाभ मिलता है। जिन लोगों की कुंडली में बुध की स्थिति अच्छी नहीं है, उन्हें दिमाग से जुड़े कामों में परेशानियों का सामना करना पड़ता है। बुध ग्रह के दोष दूर करने के लिए बुधवार को गणेश जी के साथ ही इस ग्रह की पूजा करनी चाहिए।

तिलकुंद चतुर्थी पर करें तिल से जुड़े शुभ काम

तिलकुंद चतुर्थी पर तिल का दान करना चाहिए। गणेश जी की पूजा में तिल के लड्डू का भोग लगाएं। इस दिन तिल से हवन कर सकते हैं। खाने में तिल का सेवन करें। शाम को चंद्र उदय के बाद चंद्र की पूजा में तिल-गुड़ का भोग लगाना चाहिए।

ऐसे कर सकते हैं गणेश जी की पूजा

तिलकुंद चतुर्थी पर दिनभर निराहार रहकर व्रत किया जाता है यानी पूरे दिन अन्न का त्याग करना होता है। इस दिन गणेश जी की और शाम को चंद्र की पूजा खासतौर पर की जाती है। चतुर्थी पर सुबह जल्दी उठें। स्नान के बाद गणेश जी की प्रतिमा का जल से अभिषेक करें। गणेश जी को जनेऊ पहनाएं, वस्त्र अर्पित करें। हार-फूल से श्रृंगार करें। अबीर, गुलाल, चंदन, सिंदूर, इत्र आदि चीजें चढ़ाएं।

गणेश मंत्र ऊँ गं गणपतयै नम: मंत्र का जप करते हुए दूर्वा की 21 गांठ भगवान को चढ़ाएं। लड्डुओं का भोग लगाएं। कर्पूर जलाकर आरती करें। पूजा के बाद प्रसाद वितरित करें।

बुध ग्रह के लिए करें ये शुभ काम

बुधवार और चतुर्थी के योग में बुध ग्रह की विशेष पूजा करें। हरे मूंग का दान करें। पूजा में बुध के मंत्र ऊँ बुं बुधाय नम: का जाप 108 बार करें।