पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वैशाख के तीज-त्योहार:इस महीने में शुक्रवार को आएंगे 4 बड़े व्रत और पर्व, ये सुख-समृद्धि का संयोग

7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • इस महीने आने वाले पर्वों पर स्नान-दान और पूजा-पाठ से मिलता है कई गुना शुभ फल

बुधवार, 28 अप्रैल से हिन्दी कैलेंडर का दूसरा महीना शुरू हो गया है। इस वैशाख मास के देवता भगवान विष्णु है। इसलिए इस महीने भगवान विष्णु की पूजा खासतौर पर की जाती है। वैशाख मास 26 मई तक चलेगा। साथ ही इस महीने में जल, फल, कपड़े, जूते और अन्न का दान करने की परंपरा है। पुराणों का कहना है कि वैशाख में तीर्थ स्नान करने से हर तरह के पाप खत्म हो जाते हैं। लेकिन महामारी के चलते घर पर ही पानी में गंगाजल मिलाकर नहाने से तीर्थ स्नान का फल मिल सकता है। इस महीने आने वाले पर्वों पर स्नान-दान और पूजा-पाठ से कई गुना शुभ फल मिलता है।

शुक्रवार, 30 अप्रैल को गणेश चतुर्थी है। ये व्रत गणेशजी के लिए किया जाता है। सूर्यास्त के बाद भगवान गणेश और चंद्र की पूजा की जाती है।

शुक्रवार, 7 मई को वरुथिनी एकादशी है। इस भगवान विष्णु की पूजा और व्रत करें।

मंगलवार, 11 मई को सतुवाई अमावस्या है। इस तिथि पर पितरों के लिए श्राद्ध कर्म करना चाहिए। मंगलवार को अमावस्या होने से भौमावस्या का शुभ संयोग बन रहा है।

शुक्रवार, 14 मई को सूर्य वृष राशि में प्रवेश करेगा। इस दिन वृष संक्रांति पर्व मनाया जाएगा।

शुक्रवार, 14 मई को अक्षय तृतीया है। इसी तिथि पर भगवान परशुराम प्रकट हुए। इस दिन गर्मी से बचाने वाले छाते का, मटकी का दान करना चाहिए।

मंगलवार, 18 मई को गंगा सप्तमी है। इस दिन ही जन्हु ऋषि ने देवी गंगा को अपने कान से मुक्त किया था।

गुरुवार, 20 मई को जानकी जयंती है। इस दिन माता सीता के लिए व्रत-पूजा करनी चाहिए।

शनिवार, 22 मई को मोहिनी एकादशी है। इस तिथि पर भगवान विष्णु और उनके अवतारों की पूजा करें। व्रत करें।

बुधवार, 26 मई को भगवान बुद्ध की जयंती और वैशाख पूर्णिमा है। पूर्णिमा पर घर में भगवान सत्यनारायण की कथा का पाठ करें।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें