• Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Jyotish
  • 5 Wednesdays Will Fall In The Month Of Ashadh, The Zodiac Changes Of Five Planets Will Also Happen; Due To This, There Is A Possibility Of Unwanted Weather Changes And Disturbances In The Country.

ग्रह योग:आषाढ़ मास में पड़ेंगे 5 बुधवार, पांच ग्रहों का राशि परिवर्तन भी होगा; इससे अनचाहे मौसमी बदलाव और देश में उपद्रव बढ़ने की आशंका

13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • आषाढ़ मास में पड़ेंगे 5 बुधवार, पांच ग्रहों का राशि परिवर्तन भी होगा; इससे अनचाहे मौसमी बदलाव और देश में उपद्रव बढ़ने की आशंका

आषाढ़ मास की शुरुआत 15 जून, बुधवार से हो गई है। इस दिन सूर्य ने मिथुन राशि में प्रवेश कर लिया है। इस महीने की अमावस्या 29 जून को और गुरु पूर्णिमा 13 जुलाई को मनाई जाएगी। इस महीने में पांच बुधवार का योग होने से मंगलकारी परिणाम आने के आसार हैं। वहीं, इस हिंदी महीने में पांच ग्रहों का राशि परिवर्तन भी होगा। जिससे अनचाहे मौसमी बदलाव और देश में कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन के साथ ही अगजनी भी हो सकती है।

पांच बुधवार और ग्रहों के राशि परिवर्तन का असर
पुरी के ज्योतिषाचार्य डॉ. गणेश मिश्र के मुताबिक बुध की प्रधानता और अधिक बढ़ जाएगी। जिसके फलस्वरूप व्यापारिक क्षेत्र में आयात-निर्यात बढ़ने से आय के साधनों में वृद्धि होने के आसार हैं। इस योग के कारण व्यापार में प्रगति और खाद्य सामग्री की उपलब्धता भरपूर होने के संकेत हैं।
वहीं, सूर्य, शुक्र, मंगल, बुध और शनि ग्रह आषाढ़ महीने में ही राशि बदलेंगे। इन पांच ग्रहों की चाल बदलने से अनचाहे मौसमी बदलाव होंगे। प्राकृतिक आपदा आ सकती है। साथ ही देशभर में हिंसा और उपद्रव बढ़ने की भी आशंका बन रही है।

आषाढ़ महीने का महत्व
इस महीने में दान-पुण्य का विशेष महत्व है। मिथुन राशि में सूर्य के चलते देवशयनी एकादशी तक का समय खास रहेगा। ऐसे में इस पूरे महीने जरुरतमंद लोगों को दान देने की परंपरा बनाई गई है। 5 बुधवार का संयोग बनने के कारण ज्योतिषी इस महीने को विशेष मान रहे हैं। इस दौरान अनुष्ठान भी कराए जा सकते हैं। बुधवार को गणेश पूजा और गाय को घास खिलाने से कामकाज में आ रही रुकावटें दूर हो जाएंगी।

मिथुन राशि में सूर्य का होना शुभ
डॉ. मिश्र बताते हैं कि मिथुन में सूर्य का भ्रमण शुभ कार्यों के लिए फलदायी माना जाता है। इस समय मुंडन, यज्ञोपवीत संस्कार, विद्यारंभ, सगाई, नए व्यापारिक प्रतिष्ठान की शुरुआत, चीजों की खरीदी-बिक्री और विवाह जैसे मांगलिक कार्य हो सकेंगे। मिथुन राशि में सूर्य के चलते विवाह जैसे मांगलिक कामों के लिए देवशयनी एकादशी से पहले तक शुभ मुहूर्त रहेंगे। इसके बाद चातुर्मास शुरू होने से 4 माह के लिए विवाह जैसे शुभ कामों पर रोक लग जाएगी।

खबरें और भी हैं...