विवाह के शुभ मुहूर्त:जुलाई में शादियों के लिए सिर्फ 6 दिन, 20 को देवशयन फिर 15 नवंबर से शुरू होंगे विवाह

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इस साल नवंबर में 7 और दिसंबर में 6 दिन हो पाएंगी शादियां, 15 दिसंबर से धनुर्मास शुरू होने पर नहीं होंगे विवाह

कोरोना के कारण मई-जून में शादियां नहीं कर पाए लोगों के लिए जुलाई में 6 दिन विवाह मुहूर्त हैं। इनके बाद फिर चातुर्मास शुरू होने से 4 महीने इंतजार करना होगा। देवशयन होने की वजह से जुलाई से नवंबर तक विवाह मुहूर्त नहीं रहेंगे। इसके बाद 14 नवंबर से शादियां शुरू हो पाएंगी।

चातुर्मास के कारण विवाह मुहूर्त नहीं
20 जुलाई को देवशयनी एकादशी पर भगवान विष्णु योगनिद्रा में चले जाएंगे। जो कि अगले 4 महीने तक चलेगी। इन चार महीनों की अवधि को चातुर्मास कहा जाता है। इन दिनों भगवान के सोने के कारण शादियों समेत कई शुभ कामों पर रोक लग जाएगी। फिर 15 नवंबर को कार्तिक महीने की एकादशी पर भगवान योग निद्रा से जाएंगे। इस दिन देव प्रबोधिनी एकादशी पर्व होने के साथ ही शादियों की शुरुआत हो जाएंगी।

जुलाई में अबूझ मुहूर्त समेत 6 दिन
इससे पहले मई में 16 और जून में 8 दिन यानी इन दो महीनों में विवाह के लिए कुल 24 शुभ मुहूर्त थे। इन दिनों में कोरोना महामारी और गाइडलाइन के चलते कई लोगों की शादियां नहीं हो पाईं। ऐसे लोगों के लिए जुलाई में 1, 2, 7, 13, 15 जुलाई को विवाह के शुभ मुहूर्त हैं। इसी तरह 18 जुलाई को भड़ली नवमी का अबूझ लग्न है। यानी इन 6 मुहूर्त पर शादी की जा सकती है।

नवंबर में 7 और दिसंबर में 6 मुहूर्त
20 जुलाई को देवशयन के बाद अगला विवाह का मुहूर्त 15 नवंबर को रहेगा। नवंबर में देव प्रबोधिनी के अबूझ मुहूर्त को मिलाकर 7 और दिसंबर के शुरुआती 15 दिनों में 6 शुभ मुहूर्त रहेंगे। इस तरह साल के आखिरी दो महीनों में शादियों के लिए कुल 13 दिन मिलेंगे। 15 दिसंबर को सूर्य के धनु राशि में आ जाने से धनुर्मास शुरू हो जाएगा जो कि 14 जनवरी 2022 को खत्म होगा। इसलिए साल के आखिरी महीने में सिर्फ 6 दिन विवाह के मुहूर्त रहेंगे।

जुलाई - 1, 2, 7, 13, 15 और 18 तारीख नवंबर - 15, 16, 20, 21, 28, 29 व 30 तारीख दिसंबर - 1, 2, 6, 7, 11 व 13 तारीख

खबरें और भी हैं...