• Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Jyotish
  • Rashi Parivartan Of Guru And Venus In Chaitra Navratri, Jupiter In Capricorn, Venus In Taurus, Rashifal In Hindi, Shukra Ka Rashifal

ग्रह संयोग:चैत्र नवरात्रि में गुरु और शुक्र का राशि परिवर्तन, राशि अनुसार क्या करें और क्या न करें

भोपाल2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • देवताओं के गुरु बृहस्पति और दैत्यों के गुरु हैं शुक्र, गुरु ग्रह जाएगा मकर राशि में और शुक्र जाएगा वृष में

जीवन मंत्र डेस्क. अभी चैत्र नवरात्रि चल रही है। देवी पूजा के इस महापर्व में दो बड़े ग्रहों का राशि परिवर्तन हो रहा है। शुक्र 28 मार्च को वृष राशि में प्रवेश करेगा और गुरु 29 मार्च को मकर राशि में जाएगा। गुरु यानी बृहस्पति देवताओं के गुरु हैं और दैत्यों के गुरु हैं शुक्राचार्य यानी शुक्र। इन दोनों ग्रहों का राशि परिवर्तन सभी 12 राशियों के लिए महत्वपूर्ण है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार इस संबंध में पंचांग भेद भी हो सकते हैं। गुरु ग्रह धनु और मीन राशि का स्वामी है। वृष और तुला राशि का स्वामी है शुक्र ग्रह। जानिए इन दोनों ग्रहों के राशि परिवर्तन की वजह से आपको आने समय में किन बातों का ध्यान रखना है, क्या करें और क्या न करें। ये राशिफल चंद्र राशि और शुक्र-गुरु की स्थिति पर आधारित है...

मेष- ऐसे काम करना पड़ सकते हैं, जिसमें बाधाएं आएंगी। धैर्य रखें और मेहनत करते रहें। सफलता मिलेगी। संकोच करने से बचें, वरना नुकसान संभव है।

क्या करें- दुर्गाजी को केले के फल का भोग लगाएं।

वृषभ- आपके खुद के दायरे में रहकर काम करना होगा, वरना अपमान हो सकता है। धन लाभ मिल सकता है, लेकिन कठिनाइयां भी आएंगी। प्रयास में कमी न छोड़ें।

क्या करें- मां काली को नींबू की माला चढ़ाएं।

मिथुन- आधाररहित कामों की ओर झुकाव रहेगा। बड़ी सफलता पाने के लिए मन व्याकुल रहेगा, लेकिन शांति से काम लें। जोश में नुकसान हो सकता है।

क्या करें- दुर्गाजी को खीर का भोग अर्पण करें।

कर्क- समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। निराशा की वजह से नुकसान होने की संभावनाएं। निराशा से बचें और उत्साह बनाए रखें।

क्या करें- दुर्गाजी को सफेद वस्त्र अर्पित करें।

सिंह- उत्साह बनाए रखना होगा। कार्यो में गति बना रखेंगे तो सफलता मिल सकती है। कड़ी मेहनत करनी होगी, इसमें पीछे न हटें। विवादों से बचें।

क्या करें- दुर्गाजी को मालपुओं को भोग लगाकर बच्चियों में बांट दें।

कन्या- रिश्तेदारों से शुभ समचारों की प्राप्ति होगी। धन की पूर्ति बनी रहेगी। सकारात्मकता बनाए रखने के लिए वरिष्ठ लोगों का मार्गदर्शन अवश्य लें। 

क्या करें- दुर्गाजी के मंत्र का जाप करें।

तुला- चिंताएं बढ़ेंगी, मन व्याकुल रहेगा, लेकिन आपको निराश होने से बचना है। आत्मविश्वास बनाए रखें, निकट भविष्य में स्थितियां आपके पक्ष में हो जाएंगी।

क्या करें- दुर्गाजी को घी का भोग लगाकर ब्राह्मण को दान कर दें।

वृश्चिक- ग्रहों की स्थिति आपको अनेक लाभ दिला सकती है। अपने अनुभवों से हर काम को करने में सक्षम होंगे। साथियों से सहयोग भी प्राप्त होगा। संतान का ध्यान रखें।

क्या करें- सरस्वती मां को मीठा भोग लगाएं।

धनु- पारिवारिक विवादों का सामना करना पड़ सकता है। क्रोध से बचें, वरना बात बढ़ सकती है। नाराज लोगों को मनाने में सफलता मिलेगी।

क्या करें- दुर्गा मां और शिवजी को लाल गुलाल चढ़ाएं।

मकर- गुरु, मंगल और शनि की युति इस राशि में रहेगी। धन, वर्चस्व में वृद्धि होगी। प्रयास करने में पीछे न रहें, सफलता मिलेगी एवं निराशा से बचें।

क्या करें- दुर्गाजी को अनाज चढ़ाएं।

कुंभ- पूर्व नियोजित योजनाओं में बदलाव करें, लाभ हो सकता है। भाग्य अनुकूल रहेगा। मुश्किल काम भी समय पर पूरे हो सकते हैं। अहंकार से बचें।

क्या करें- नीम वृक्ष पर हल्दी लगाकर पूजन करें और माता का आर्शीवाद लें।

मीन- आपके लिए समय बहुत ही अच्छा है। मनचाहे काम पूरे हो सकते हैं। परिवार में प्रसन्नता रहेगी। वाद-विवाद से बचें, वरना बने-बनाए काम बिगड़ सकते हैं।

क्या करें- तीन से दस वर्ष की कन्याओं को भोजन कराएं।