• Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Jyotish
  • Venus Will Be Setting Till January 11, Chances Of Increasing Frost And Rain; 4 Zodiac Signs Including Aquarius Have To Be Careful

11 जनवरी तक अस्त रहेगा शुक्र:ठंढ बढ़ने और बारिश होने के योग; कुंभ सहित 4 राशियों को रहना होगा संभलकर

21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

इस महीने शुक्र 5 और बुध 12 दिन तक अस्त रहेगा। साथ ही शनि भी अस्त होगा। सितारों की ऐसी स्थिति की वजह से मौसम खराब होने और प्राकृतिक आपदा आने और बीमारियों के बढ़ने की आशंका है। इन ग्रहों का असर सभी राशियों पर भी पड़ेगा। जिससे कुछ लोगों के कामों में रुकावटें आने और धन हानि होने के भी योग बनेंगे।

ठंड बढ़ने और बारिश होने के योग
ज्योतिष में शुक्र को वैभव, भौतिक सुख, संपन्नता, भोग विलास, प्रेम और धन-संपत्ति का कारक माना जाता है। वक्री अवस्था में चल रहा शुक्र 6 जनवरी को धनु राशि में अस्‍त होगा और 11 तारीख को उदित हो जाएगा। शुक्र के अस्त होने से अर्थव्यवस्था पर असर पड़ेगा। इस दौरान अर्थव्यस्था जुड़ी बड़ी योजनाओं में रुकावटें या देरी होगी। शेयर मार्केट में भी इस दौरान काफी हलचल दिख सकती है। निवेश बहुत सावधानी से करना होगा। कपड़े के बिजनेस में मंदी आएगी। साथ ही देश के कुछ हिस्सों में बर्फबारी और बारीश आने की संभावना है। प्राकृतिक आपदा की भी आशंका है।

मिथुन, कन्या, मकर और कुंभ के लिए अशुभ
धनु राशि में शुक्र ग्रह के अस्त होने से इसका प्रभाव कम हो जाएगा और शुभ फलों में भी कमी आने लगेगी। शुक्र विलासिता का कारक ग्रह है। इसलिए इसके प्रभाव से सभी राशि वालों को हर तरह के सुख में कमी आ सकती है। शुक्र के कारण कई लोगों के वैवाहिक जीवन में उतार-चढ़ाव आ सकते हैं।

शुक्र के अस्त होने से मिथुन, कन्या, मकर और कुंभ राशि वाले लोगों के लिए समय ठीक नहीं रहेगा। इन 4 राशियों के लोगों के कामकाज में रुकावटें आ सकती है। धन हानि और खर्चा बढ़ने के योग हैं। इनके अलावा मेष, वृष, कर्क, सिंह, तुला, वृश्चिक, धनु और मीन राशि वाले लोगों पर शुक्र अस्त होने का अशुभ असर नहीं होगा।

सूर्य के नजदीक आने से अस्त होगा शुक्र
वैदिक ज्योतिष के अनुसार ग्रह का अस्त होना बहुत महत्वपूर्ण घटना है। पुरी के ज्योतिषाचार्य डॉ. गणेश मिश्र बताते हैं कि हर साल, कुछ दिनों के लिए आकाश में ग्रह दिखाई नहीं देते हैं क्योंकि वे सूर्य के बहुत करीब आ जाते हैं। इसे ग्रह का अस्त या लोप होना भी कहा जाता है। शुक्र अस्त होने के दौरान शुभ काम नहीं किए जाते हैं। बृहत्संहिता ग्रंथ के अनुसार शुक्र के अस्त होने से मौसम में अचानक बदलाव हो सकता है। तेज ठंड के दौरान देश में कई जगह बारिश होने की भी संभावना बन रही है।

शुक्र अस्त और उदय का समय
6 से 11 जनवरी तक सूर्य से शुक्र की दूरी 10 डिग्री से भी कम होगी। इसी स्थिति को शुक्र का अस्त होना कहा जाता है। अस्त होने पर शुक्र का प्रभाव कम हो जाएगा। इस बार शुक्र तारा 5 दिनों के लिए ही अस्त हो रहा है। यानी 11 जनवरी को सुबह शुक्र ग्रह उदय हो जाएगा।
अस्त होने का दिन और समय : 6 जनवरी, गुरुवार को शाम करीब 6 बजकर 05 मिनट पर
उदय होने का दिन और समय: 11 जनवरी, मंगलवार को सुबह तकरीबन 6 बजकर 45 मिनट पर

खबरें और भी हैं...