फीचर आर्टिकल:नौकरी चाहिए या फिर करियर में आगे बढ़ना है तो गुरु बृहस्पति की कृपा है बहुत जरूरी

5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

अक्सर लोग नौकरी या एग्जाम के लिए कड़ी मेहनत करते हैं लेकिन उन्हें मनचाहा परिणाम नहीं मिल पाता। नौकरियों में भी कितना भी अच्छा काम कर लें लेकिन वरिष्ठ अधिकारियों की सराहना नहीं मिलती और मेहनत के अनुसार तरक्की भी नहीं मिलती। इन सभी चीज़ों के पीछे कहीं न कहीं कुंडली में गुरु यानी बृहस्पति का अनुकूल न होना है। अगर गुरु बृहस्पति को प्रसन्न कर लिया तो फिर मनचाही नौकरी, परीक्षा में सफलता और वरिष्ठ अधिकारियों की कृपा प्राप्त होने में देर नहीं लगती।

नवग्रहों में बृहस्पति को सबसे ज्यादा शुभ और शक्तिशाली ग्रह माना जाता है। पंच तत्वों में आकाश का अधिपति होने के कारण बृहस्पति ग्रह का प्रभाव बहुत ही व्यापक होता है। बृहस्पति के अनुकूल होने से व्यक्ति शीर्ष पर पहुंच सकता है। बृहस्पति की कृपा पाने वाला व्यक्ति जिस भी फील्ड में जाता है वहां पर सबसे ऊंचे पद पर विराजमान होता है। वह जातक उच्च पदाधिकारी, शासनाधिकारी या राजनीति में उच्चतम सफलता प्राप्त करता है। बृहस्पति ग्रह व्यक्ति को समाज में मान, प्रतिष्ठा दिलाता है। इसके साथ ही काम करने की क्षमता को भी बढ़ाता है। बृहस्पति अनुकूल होने पर जितना शुभ होता है, उतना ही प्रतिकूल होने पर इसके परिणाम भयंकर अशुभ हो जाते हैं। इसलिए शीर्ष पर पहुंचने और वहां पर कायम रहने के लिए गुरु बृहस्पति की कृपा प्राप्त करना बहुत ही आवश्यक है। बृहस्पति देव की पूजा-अर्चना करने वाले लोगों को सात्विक रहना चाहिए। ऐसे लोगों पर बृहस्पति देव की कृपा बनी रहती है।

बृहस्पति के अशुभ प्रभाव से हो सकती हैं ये परेशानियां – गुरु बृहस्पति के कमजोर होने से व्यक्ति के बने-बनाए काम बिगड़ने लगते है। मेहनत करने के बावजूद परीक्षा में मनचाहा परिणाम नहीं मिलता, मनचाही नौकरी नहीं मिलती या हाथ से निकल जाती है। या फिर योग्यता के मुताबिक नौकरी नहीं मिलती। नौकरी में उच्च-अधिकारियों की कृपा नहीं मिलने से संकट और परेशानियां बढ़ जाती हैं। काम का बोझ बढ़ जाता है। योग्य होने के बावजूद नौकरी में प्रमोशन नहीं मिलता। घर-परिवार से दूर ट्रांसफर हो जाता है। वापस लौटने के आसार नजर नहीं आते। ऐसी ही तमाम नौकरी से जुड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

गुरु बृहस्पति की कृपा पाने के लिए करें यह उपाय- यदि बृहस्पति अनुकूल नहीं है या फिर बृहस्पति कुंडली में शुभ है लेकिन उसे और ज्यादा शुभ बनाना है तो उनकी नियमित रूप से विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए। बृहस्पतिवार का व्रत रखकर भगवान बृहस्पति को पीले फूल, चने की दाल, साबुत हल्दी, पीला कपड़ा जैसी चीजें चढ़ाकर दान करनी चाहिए। कुंडली में दोष के हिसाब से अलग-अलग दोषों के लिए अलग-अलग उपाय हो सकते हैं। दुनियाभर में लाखों लोग बृहस्पति की दशा से पीड़ित हैं और उन्हें प्रसन्न करने के लिए उपाय और पूजा-अर्चना करना चाहते हैं लेकिन उन्हें सही जानकारी नहीं मिल पाती है। क्या आप जानते हैं कि गुरु बृहस्पति को प्रसन्न करने के लिए यहां वहां भटकने के बजाय आप दुनिया के एकमात्र बृहस्पति धाम मंदिर में सीधे गुरु बृहस्पति की पूजा कर सकते हैं।

दुनिया का एकमात्र बृहस्पति धाम मंदिर जहां पूजा करने से मिलती है गुरु बृहस्पति की कृपा और दूर होते हैं कुंडली में बृहस्पति के दोष

यदि मनोकामना की टोकरी है।

अपनी कुंडली में बृहस्पति के दोष और उनके उपाय जानने के लिए और बृहस्पति धाम मंदिर में पूजा अर्चना जानकारी प्राप्त करने के लिए आप मोबाइल नंबर +91-73000-88446 पर भी संपर्क कर सकते हैं या फिर ईमेल के माध्यम से भी पत्राचार कर सकते हैं।

अगर आप भी जयपुर जाकर मंदिर में दर्शन लाभ और पूजा अर्चना करना चाहते हैं तो हम आपको मंदिर का पता भी बता देते हैं

बृहस्पति धाम मंदिर, महारानी फार्म, दुर्गापुरा, टोंक रोड, जयपुर (राजस्थान) - 302018

खबरें और भी हैं...