Hindi News »Jharkhand »Adityapur» विकलांग व विधवा पेंशन में 100 रुपए बढ़े उम्र सीमा में भी हुआ परिवर्तन, परिवार के मुखिया के मरने प

विकलांग व विधवा पेंशन में 100 रुपए बढ़े

उम्र सीमा में भी हुआ परिवर्तन, परिवार के मुखिया के मरने पर मिलेंगे 20 हजार रुपए

भास्कर न्यूज। चक्रधरपुरराष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम ((एनएसएपी)) के अंतर्गत आने वाली योजनाओं के नए...

Matrix News | Last Modified - Jan 18, 2013, 06:52 AM IST



भास्कर न्यूज। चक्रधरपुर

राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम ((एनएसएपी)) के अंतर्गत आने वाली योजनाओं के नए मापदंड तय किए गए हैं इसमें अब पेंशन राशि में भी बढ़ोत्तरी के अलावा उम्र सीमा में भी फेरबदल हुआ है।अब विधवा व विकलांग पेंशनधारियों को प्रति माह तीन सौ रुपए और राष्ट्रीय परिवार हित लाभ योजना के तहत परिवार के मुखिया के मरने पर दस हजार से बढ़ाकर अब 20 हजार रुपए दिए जाएंगे। ग्रामीण विकास मंत्रालय, भारत सरकार नई दिल्ली द्वारा राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम की सभी योजनाओं के लिए नए मापदंड निर्धारित करने का निर्देश जारी किया गया है। इसकी प्रतिलिपि हर प्रखंड को भेजी जा रही है।

उम्र सीमा में हुई बढ़ोतरी

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन योजना में आयु सीमा 59 वर्ष से बढ़ाकर 79 वर्ष हो गई है। पारिवारिक लाभ के लिए आयु सीमा 64 वर्ष से घटाकर 59 कर दी गई है। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन योजना एवं इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विकलांग पेंशन योजना में वर्धित पेंशन राशि 1 अक्टूबर से तथा राष्ट्रीय परिवार हित लाभ योजना में वर्धित राशि को 18 अक्टूबर 2012 से लागू किया जाना है। 79 वर्ष की विधवाओं व विकलांगों को क्रमश: इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन व इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विकलांग पेंशन योजना में शामिल कर उन्हें 500 रुपए प्रतिमाह दिया जाना है।



पेंशनधारियों का भौतिक सत्यापन होगा वर्ष में दो बार

राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम के अंतर्गत संचालित सभी योजनाओं इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धापेंशन, विधवा पेंशन, विकलांग पेंशन योजना तथा राज्य सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना के पेंशनधारियों का भौतिक सत्यापन वर्ष में दो बार किया जाएगा। यह सत्यापन मुखिया, पंचायत के सभी सचिव व पंचायत समिति की उपस्थिति में होगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Adityapur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×