Hindi News »Jharkhand »Adityapur» सुवर्णरेखा परियोजना के गालूडीह बराज सिस्टम का काम किए बगैर एजेंसी ने निकाल लिए ‌Rs.2.88 करोड़, अभियंता को शोकॉज

सुवर्णरेखा परियोजना के गालूडीह बराज सिस्टम का काम किए बगैर एजेंसी ने निकाल लिए ‌Rs.2.88 करोड़, अभियंता को शोकॉज

सुवर्णरेखा बहुद्देशीय परियोजना में सरकारी राशि की लूट-खसोट का मामला प्रकाश में आया है। मामला गालूडीह बराज की...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 24, 2018, 02:55 AM IST

सुवर्णरेखा परियोजना के गालूडीह बराज सिस्टम का काम किए बगैर एजेंसी ने निकाल लिए ‌Rs.2.88 करोड़, अभियंता को शोकॉज
सुवर्णरेखा बहुद्देशीय परियोजना में सरकारी राशि की लूट-खसोट का मामला प्रकाश में आया है। मामला गालूडीह बराज की दायीं नहर की मरम्मति व सफाई का है। यह कार्य गर्ग इंजीनियरिंग एंड कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड को 20 सितंबर 2016 को आवंटित हुआ था। योजना की कुल राशि 3 करोड़ 32 लाख थी, लेकिन एजेंसी ने बिना काम कराए 2 करोड़ 88

लाख रुपए की निकासी कर ली। योजना में दी गई शर्तों के मुताबिक गालूडीह के दायीं बराज में शून्य किलोमीटर से ओडिशा की सीमा तक 56 किलोमीटर बराज की मरम्मति एवं सफाई का कार्य कराना था। इतना ही नहीं जून 2018 में इस कैनाल में पानी छोड़ने की विभाग की योजना भी थी, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया है। करीब 80 फीसदी राशि की निकासी कर ली गई है। प्रथम दृष्टया जांच में पाया गया कि कैनाल में मिट्टी भरी है और घास उग आई है। ऐसे में तय समय के अनुसार कैनाल में पानी नहीं छोड़ा जा सकेगा और घाटशिला, बहरागोड़ा के साथ ओडिशा के किसानों को भी पानी नहीं मिल सकेगा। इस बात की जानकारी मिलते ही परियोजना के प्रशासक ब्रजमोहन कुमार ने इसे गंभीरता से लेते हुए मुख्य अभियंता वीरेंद्र कुमार राम को जांच का आदेश दिया है। मुख्य अभियंता ने तत्काल कंस्ट्रक्शन कंपनी की निकासी पर रोक लगाते हुए कैनाल में पानी छोड़ने पर भी रोक लगा दी है। उन्होंने बताया कि साइट विजिट कर इसकी जांच रिपोर्ट प्रशासक को सौंपेंगे।

केनाल में पानी छोड़ने के लिए मना किया, दोषियों के खिलाफ होगी कार्रवाई

मेरे संज्ञान में मामला आया है। मैंने मुख्य अभियंता से वस्तु स्थिति की जांच कर रिपोर्ट मांगी है। मामला गंभीर है। सरकारी पैसे की बंदरबांट हुई है। इसमें दोषी पाए जाने पर विभाग के अभियंता हों या एजेंसी दोनों पर सरकारी राशि के गबन की प्राथमिकी दर्ज की जाएगी। ब्रज मोहन कुमार, प्रशासक एसएमपी

जैसे ही मुझे सरकारी राशि के बंदरबांट की जांच का जिम्मा मिला, मैंने कार्यपालक अभियंता को शो-कॉज किया हूं। कैनाल में अभी पानी छाेड़ने पर रोक लगा दी है। दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी। वीरेंद्र कुमार राम, मुख्य अभियंता एसएमपी

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Adityapur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×