• Hindi News
  • Jharkhand
  • Baliyapur
  • बलियापुर-सिंदूरपुर बड़ा तालाब के जीर्णोद्घार में राजनीति का अड़ंगा
--Advertisement--

बलियापुर-सिंदूरपुर बड़ा तालाब के जीर्णोद्घार में राजनीति का अड़ंगा

बलियापुर सिंदूरपुर बड़ा तालाब जीर्णोद्घार कार्य राजनीतिक अखाड़ा बन गया है। सिंदूरपुर बड़ा तालाब का जीर्णोद्धार...

Dainik Bhaskar

Jul 10, 2018, 02:00 AM IST
बलियापुर-सिंदूरपुर बड़ा तालाब के जीर्णोद्घार में राजनीति का अड़ंगा
बलियापुर सिंदूरपुर बड़ा तालाब जीर्णोद्घार कार्य राजनीतिक अखाड़ा बन गया है। सिंदूरपुर बड़ा तालाब का जीर्णोद्धार कार्य संपन्न कराने को लेकर सिंदूरपुर पंचायत के ग्रामीणों की बैठक सोमवार पांडेडीह मध्य विद्यालय परिसर में पूर्व मुखिया समीर मुर्मू की अध्यक्षता में हुई। बैठक में ग्रामीणों ने बीसीसीएल को 1 सप्ताह का अल्टीमेटम देते हुए तालाब का कार्य संपन्न करने को कहा अन्यथा तालाब के मेढ़ बधाई स्वयं करेंगे। सिंदूरपुर बड़ा तालाब जीर्णोद्धार का कार्य आज दो वर्षों से बंद पड़ा हुआ है। इससे संबंधित समाचार दैनिक भास्कर ने डीबी स्टार ने प्रमुखता से छापी थी। जीर्णोद्घार कार्य बीसीसीएल सीएसआर से लगभग 64 लाख की राशि से होनी है। शिलान्यास जीर्णोद्घार का कार्य दो फरवरी 2016 को प्रारंभ हुआ था। कार्य संपन्न होने को था तालाब की बीच में ही गाद व जलकुंभी बरकरार रहने से मुखिया उमा देवी एवं भाजपा अभिनेत्री अल्पना मुखर्जी ने बीसीसीएल अधिकारियों, सांसद एवं विधायक को पत्र लिखकर जांच कर कार्य पूरा करने की मांग की थी। इसके साथ ही विगत दो वर्षों से तालाब जीर्णोद्धार कार्य बंद हो गया। इसके साथ ही सिंदूरपुर पंचायत में गर्मी के दिनों में जल संकट का विकराल रूप ले लिया था। गांव के कुआं, तालाब सूख गए थे। किसानों की खेती बंद हो गई थी।

सिंदूरपुर बड़ा तालाब में जीर्णोद्धार को लेकर पांडेडीह मध्य विद्यालय में बैठक करते ग्रामीण।

नहीं निकल पाया है तालाब की गाद और जलकुंभी

कार्य प्रारंभ होते ही रविवार को मुखिया उमा देवी, अल्पना मुखर्जी, विधायक फूलचंद मंडल, बीसीसीएल सीएसआर के जीएम आरएन प्रसाद, सहायक जीएम सुरेश सिंह तालाब का जायजा लेने पहुंचे। विधायक की उपस्थिति में ग्रामीणों ने कहा कि जब तक तालाब की गाद एवं जलकुंभी नहीं निकाली गई, तो तालाब ज्यों का त्यों बना रह जाएगा।

तालाब सूखने से दो किमी दूर जाना पड़ता है ग्रामीणों को स्नान करने

इधर, ग्रामीणों ने बैठक कर कहा कि दो वर्षों से तालाब सूखा रहने से ग्रामीणों को जल संकट की विकट परिस्थिति हो जाती है। महिला एवं ग्रामीणों को दो किलोमीटर दूर जाकर स्नान करने को मजबूर होते हैं। गर्मी के दिनों में जल संकट की विकराल परिस्थिति उत्पन्न हो जाती है। कुआं, चापानल, तालाब जवाब देने लगता है। मौके पर प्रमुख प्रतिनिधि राजू महतो, उप प्रमुख राजेंद्र किस्कू, विदेश दा, पूर्व मुख्य समीर मुर्मू, पंचायत समिति सदस्य सोनाराम हेंब्रम, मुनीलाल, खगेन पांडे, सिकंदर किस्कू, सूर्यकांत सोरेन, विजय सोरेन, रामप्रसाद रजवार सहित सैकड़ों महिला-पुरुष मौजूद थे।

X
बलियापुर-सिंदूरपुर बड़ा तालाब के जीर्णोद्घार में राजनीति का अड़ंगा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..