--Advertisement--

दहेज हत्या में पति को 10 साल की सजा

Dainik Bhaskar

Feb 03, 2018, 02:05 AM IST

Bangabad News - प|ी का हत्यारा संजीत को दहेज हत्या के आरोप में 10 साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई गई है। यह फैसला व्यवहार न्यायालय के...

दहेज हत्या में पति को 10 साल की सजा
प|ी का हत्यारा संजीत को दहेज हत्या के आरोप में 10 साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई गई है। यह फैसला व्यवहार न्यायालय के जिला एवं अपर सत्र न्यायाधीश चतुर्थ अरविंद कुमार पांडेय ने सुनाया है। मामले के आरोपी सास, ससुर, भैंसुर और पति ने मृतका अंत्रा कुमारी उर्फ किन्नी कुमारी को शादी के 2 साल बाद अपने व्यवसाय को बढाने के लिए 2 लाख रुपए मायके से लाने कहा था।लेकिन उसने नहीं लाई तो सभी ने जला कर मार दिया था। इसी मामले में अदालत ने बीते बुधवार को आरोपी पति को दोषी करार दिया था और मामले के आरोपी सास मीना देवी ससुर ललन राम और भैंसुर रंजीत राम को साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया था और सजा के बिंदु पर सुनवाई के लिए अदालत ने शुक्रवार की तारीख तय की थी।अदालत ने आरोपी की उपस्थिति में सजा के बिंदु पर सुनवाई शुरू की ।अभियोजन पक्ष से अपर लोक अभियोजक सुनील चंद्र श्रीवास्तव ने बहस की और सजा के समर्थन में उन्होंने 8 गवाहों का परीक्षण करवाया था। वहीं बचाव पक्ष से अधिवक्ता दुर्गा प्रसाद पांडेय ने बहस किया। दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अदालत शहर के शिव मोहल्ला के आरोपी पति संजीत राम को दहेज हत्या के जुर्म में 10 साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई है।साथ ही 10 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है। जुर्माने की रकम नहीं देने पर 6 महीने की अतिरिक्त सजा भुगतनी पड़ेगी। मामले में आरोपी 8 अक्टूबर 2013 से जेल में बंद है।

पति ने बचने के लिए अपना हाथ में जला लिया था

आरोपी पति ने मामले में अभियुक्त ना बने इसके लिए मृतका को जलाने के समय अपना हाथ भी जला लिया था।लेकिन परिणाम उसका ठीक विपरीत निकला।अभियोजन पक्ष के एपीपी ने बहस में इस बात को अदालत के सामने उजागर किया था। उसने कहा था कि अंत्रा यदि अपने से जल के मरती और आरोपी उसे बचा रहा था।तो सिर्फ उसका हाथ ही क्यों जलता उसके शरीर के अन्य अंगों को नुकसान पहुंचा दिया जाता।

व्यवसाय के लिए रुपए मंगाने का बना रहा था दबाव

बेंगाबाद के रहने वला मृतका के पिता सत्यनारायण राम के आवेदन पर मामला दर्ज किया गया था।उसने कहा था कि वह अपने पुत्री अंत्रा कुमारी की शादी 2011 में आरोपी संजीत के साथ किया था। लेकिन शादी के कुछ दिन बाद उसके सास ससुर भैंसुर और पति ने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए दो लाख रुपए का मांग करने लगा था और नहीं लाने पर उसके साथ मारपीट करता था। इतना ही नहीं उसे मारपीट घर से भगा भी दिया गया था। लेकिन फिर उसके पति और अन्य लोग उसे जाकर उसकी मायके से यह कहकर ले आया था कि अब उसके साथ किसी भी तरह से कोई मांग नहीं की जाएगी। 8 अक्टूबर 2013 को उसे सूचना मिला था कि उसकी बेटी अंत्रा की मौत आग में जलने से हो गई है।

X
दहेज हत्या में पति को 10 साल की सजा
Astrology

Recommended

Click to listen..