• Home
  • Jharkhand News
  • Bhadaninagar
  • झारखंड बंद की पूर्व संध्या पर विपक्षी दलों ने जुलूस निकाल मांगा समर्थन
--Advertisement--

झारखंड बंद की पूर्व संध्या पर विपक्षी दलों ने जुलूस निकाल मांगा समर्थन

भूमि अधिग्रहण बिल संशोधन के खिलाफ़ विपक्षी दलों ने झारखंड बंद की पूर्व संध्या बुधवार को मशाल जुलूस निकाला। यह...

Danik Bhaskar | Jul 05, 2018, 02:05 AM IST
भूमि अधिग्रहण बिल संशोधन के खिलाफ़ विपक्षी दलों ने झारखंड बंद की पूर्व संध्या बुधवार को मशाल जुलूस निकाला। यह जुलूस बिरसा चौक से निकलकर जनता टॉकीज, भुरकुंडा बाजार होते हुए भुरकुंडा थाना चौक पहुंचा। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने दुकानदार, वाहन चालकों से गुरुवार को बंदी का समर्थन करते हुए अपने-अपने प्रतिष्ठानों को बंद करने की अपील की। मशाल जुलूस में नरेश बड़ाईक, सरयू मुंडा, मुकेश राउत, उदय मालाकार, रामाकांत दुबे, प्रदीप महतो, बारीक अंसारी, मनोज साव, दीपक मुंडा, शिव कुमार महतो, हरिलाल महतो, प्रमोद ठाकुर, हरि साव, लखनलाल सहित दर्जनों लोग शामिल थे।

झारखंड बंद की पूर्व संध्या पर आयोजित मशाल जुलूस में शामिल लोग।

गिद्दी सी : मशाल जुलूस निकाल कानून वापस लेने की मांग

गिद्दी | विपक्षी दलों ने गुरुवार को होने वाले झारखंड बंद को लेकर बुधवार की देर शाम गिद्दी सी ट्रैकर स्टैंड में मशाल जुलूस निकाला। इस दौरान मौजूद लोगों ने राज्य सरकार से किसान विरोधी भूमि संशोधन अधिग्रहण कानून वापस लेने की मांग की। मौके पर कुमेश्वर महतो, देवचंद महतो, जीवलाल महतो, राकेश सिंह उर्फ कबलु, राजेश टुडू, प्रीतलाल महतो, सेवालाल महतो, नेमन यादव, सुजीत महतो, सुदीप चौधरी, काली दास मांझी, राजेश मुंडा, दिलीप बेदिया, गोपाल बद्र्वा, राजू यादव, मुकेश यादव आदि मौजूद थे।

पतरातू में भी विपक्षी दलों ने निकाला मशाल जुलूस

पतरातू | पतरातू में विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओं ने भूमि अधिग्रहण बिल में संशोधन के खिलाफ बुधवार की शाम मशाल जुलूस निकाला। मशाल जुलूस पतरातू रेलवे फाटक से शहीद चौक होते हुए विभिन्न जगहों में घूमा। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने सरकार के विरोध में जमकर नारेबाजी की। साथ ही आम लोगों से सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरकर झारखंड बंद को सफल बनाने की अपील की। मौके पर झाविमो प्रखंड अध्यक्ष प्रदीप महतो ने कहा कि पांच जुलाई को होने वाली बंदी ऐतिहासिक होगी। मौके पर दुर्गाचरण प्रसाद, रंजीत बेसरा, मुमताज अंसारी, अलीम अंसारी, नित्यानंद कुमार समेत दर्जनों कार्यकर्ता शामिल थे।