• Home
  • Jharkhand News
  • Bhadaninagar
  • सत्ता और धनबल के दुरुपयोग से लोकतंत्र की हो रही है हत्या
--Advertisement--

सत्ता और धनबल के दुरुपयोग से लोकतंत्र की हो रही है हत्या

झाविमो रामगढ़ जिला कमिटी के सदस्यों ने धनबल का दुरुपयोग कर लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाते हुए रविवार की शाम...

Danik Bhaskar | Jul 09, 2018, 02:05 AM IST
झाविमो रामगढ़ जिला कमिटी के सदस्यों ने धनबल का दुरुपयोग कर लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाते हुए रविवार की शाम सुभाष चौक पर मुख्यमंत्री रघुवर दास का पुतला दहन किया। पुतला दहन से पूर्व झाविमो नेताओं ने सुभाष चौक पर जमकर प्रदर्शन किया। वहीं सरकार विरोधी नारेबाजी भी की। पुतला दहन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष राजीव जायसवाल ने कहा कि जिस प्रकार भाजपा सत्ता की शक्तियों और धनबल का दुरुपयोग कर लोकतंत्र का हत्या करना चाहती है। ये देश के लिए खतरा है। झाविमो के छः विधायकों को धन एवं पद का लालच देकर अपने पाले में शामिल कराया गया है, जिससे भाजपा का असली चरित्र सामने आया है। झाविमो मांग करती है कि जो पत्र झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने महामहिम राज्यपाल को दिया है उसकी जांच सीबीआई से कराई जाए। अगर जांच नहीं होती है तो इससे जाहिर है सरकार अपने कुकर्मों को छिपाना चाहती है। पुतला दहन कार्यक्रम में मुख्य रूप से केंद्रीय सदस्य दुर्गाचरण प्रसाद, विजय जायसवाल, वसुध तिवारी, अजित गुप्ता, सुनील वर्णवाल, गोपी प्रजापति, बबली सिंह, सचिन करमाली, जसप्रीत सिंह, राहुल पासवान, अंकित सिंह, त्रिलोकी गिरी, संजय रजक, प्रदीप महतो, रोबिन गुप्ता सहित कई झाविमो नेता और कार्यकर्ता शामिल थे।

छह विधायकों के दल-बदल मामले में भाजपा का चरित्र उजागर

शहर के सुभाष चौक पर मुख्यमंत्री रघुवर दास का पुतला दहन करते झाविमो नेता और कार्यकर्ता।

भाकपा माले ने जयंत सिन्हा का पुतला फूंका

भदानीनगर | भाकपा माले ने रविवार को केंद्रीय उड्डयन मंत्री सह हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा का पुतला दहन किया । इस दौरान प्रखंड सचिव नरेश बड़ाइक ने कहा कि मंत्री जयंत सिन्हा ने अलीमुद्दीन की हत्या में शामिल लोगों के बेल पर छूटने पर फूल-माला पहनाकर स्वागत किया है जो घोर निंदनीय है। मंत्री के द्वारा स्वागत करने से हत्यारों का मनोबल बढ़ता है। साक्ष्य के आधार पर आरोपियों को सजा हुई थी। पुतला दहन में सरयू मुंडा, मनोज मांझी, सुलेंद्र मुंडा, विजय मुंडा, बिहारी मुंडा, नरेश गंझू, ब्रह्मदेव मुर्मू, अजय सोरेन, चारू मांझी, दिनेश मुर्मू , भुनेश्वर बेदिया शामिल थे।