• Home
  • Jharkhand News
  • Bhawnathpur
  • आधुनिक पद्धति से कम लागत में दलहन की पैदावार बढ़ाएं
--Advertisement--

आधुनिक पद्धति से कम लागत में दलहन की पैदावार बढ़ाएं

बलीगढ़ पंचायत सचिवालय के प्रांगण में कृषि विभाग के द्वारा सोमवार को दलहन प्रोसेसिंग प्लांट लगाने हेतु किसानों से...

Danik Bhaskar | May 22, 2018, 02:05 AM IST
बलीगढ़ पंचायत सचिवालय के प्रांगण में कृषि विभाग के द्वारा सोमवार को दलहन प्रोसेसिंग प्लांट लगाने हेतु किसानों से वार्तालाप के लिए कार्यक्रम आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता मुखिया सुरेंद्र यादव ने की। कार्यक्रम में जिला कृषि पदाधिकारी रवि चंद्रा ने कहा कि जिले के किसान पुरानी पद्धति से अरहर की खेती करते आ रहे है इसको पद्धति को आधुनिक पद्धति से कम लागत में उन्नत किस्म की बीज से दलहन की पैदावार बढ़ा सकते है। केतार में दलहन प्रोसेसिंग प्लांट लगने से केतार, भवनाथपुर, खरौंधी के किसानों को लाभ होगा। इसके लिए किसानों को बीज वितरण के लिए ग्राम समिति का गठन किया जाएगा तथा महिला स्वयं सहायता समूह के लोगो को जोड़ा जाएगा।

बाजार समिति के सचिव राहुल कुमार ने कहा कि किसान अपने बीज को अधिक दाम पर बेचने के लिए रजिस्ट्रेशन कराए। प्रधानमंत्री ने ई नाम पोर्टल की शुरूआत की है, जो झारखंड के 19 जिलों में लागू है। अरहर का नमूने को लेकर बाजार में भेजी जाएगी जो आन लाइन बोली लगाई जाएंगी। ई नाम आम योजना एक ऐसी योजना है जिसे आन लाइन बेच सकते हैं। बाजार समिति के पोर्टल में पंजीकृत होना होगा। जिससे किसानों को आधार कार्ड, मोबाइल नंबर, पासबुक की छाया प्रति देना होगा। सरकार का उद्देश्य किसानों की आय को दोगुणा करना है। इधर एसडीएम कमलेश्वर नारायण ने कहा की दलहन प्रोसेसिंग प्लांट लगने से किसानों की दालो को सरकारी विद्यालयों में मध्याह्न भोजन में क्रय की जाने वाली दाल की खरीद किसानों से डायरेक्ट होगा। एसडीएम ने बीडीओ को निर्देश दिया कि आगामी एक सप्ताह के अंदर बीज वितरण के लिए ग्राम समिति का गठन हेतु तीन सदस्यीय टीम जिसमें बीटीएम, मुखिया को रहना अनिवार्य होगा ताकि एक किसान दूसरे समिति में न जुड़ सके। कार्यक्रम के दौरान अन्य मामलों मुखिया को निर्देश दिया कि पंचायत भवन में सूचना पट के साथ मंगलवार को पेंशन शिविर लगा कर पेंशन फार्म अनुमंडल कार्यालय में जमा करें। हम तुरंत स्वीकृति देंगे। किसानों की समस्या पूछे जाने पर प्रगतिशील किसान के अध्यक्ष रामविचार साहू ने कहा कि सिंचाई की गम्भीर समस्या है, इससे निजात पाने के लिए किसानों के 20 हेक्टेयर में सोलर पंप के साथ डीप बोर की व्यवस्था करनी होगी। वहीं नील गायों से क्षतिपूर्ति की मुआवजा देनी की बात कही। इस मौके पर बीडीओ सिद्धार्थ शंकर यादव, मेराल बीटीएम अजय कुमार साहू, सांसद प्रतिनिधि विनय प्रसाद, बीस सूत्री अध्यक्ष त्रिपुरारी सिंह, विधायक प्रतिनिधि, विक्रमा सिंह, कामेशर सिंह, बीटीएम नंदकिशोर राम, सुरेश प्रसाद, मनोरंजन प्रसाद, संतोष कुमार सहित सैकड़ों किसान उपस्थित थे।

बैठक करते अधिकारी।