--Advertisement--

हसन चिकना गिरोह का एक सदस्य हावड़ा से पकड़ाया

गिरफ्तार अपराधी के साथ पुलिस पदाधिकारी। सिटी रिपोर्टर | बोकारो एसबीआई बैंक की एडीएम शाखा में लॉकर तोड़कर की गई...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 02:10 AM IST
गिरफ्तार अपराधी के साथ पुलिस पदाधिकारी।

सिटी रिपोर्टर | बोकारो

एसबीआई बैंक की एडीएम शाखा में लॉकर तोड़कर की गई करोड़ों की चोरी के मामले में बोकारो पुलिस ने हसन चिकना गिरोह के एक सदस्य जावेद अंसारी उर्फ जावेद कुरैशी को हावड़ा से गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। चोरों ने 25 दिसम्बर 2017 की रात में भारतीय स्टेट बैंक की एडीएम शाखा में प्रवेश कर 71 लॉकर को तोड़कर करोड़ों रुपए के जेवरात और अन्य सामानों की चोरी कर ली थी। बोकारो पुलिस की जांच में इस घटना में मुर्शिदाबाद के रहने वाले हसन चिकना गिरोह का नाम सामने आया था। घटना के कुछ दिन बाद ही पुलिस ने इस मामले में हसन चिकना गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार किया था। पुलिस की छानबीन में यह जानकारी मिली कि इस घटना में शामिल धनबाद जिला के कतरास निवासी जावेद अपने पूरे परिवार के साथ हावड़ा में रह रहा है। सूचना के बाद सिटी थाना प्रभारी सह पुलिस निरीक्षक मदन मोहन प्रसाद सिन्हा ने उसे हावड़ा के ज्यादा पाड़ा से गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस की पूछताछ में उसने बताया कि वह हसन और अख्तर के साथ बस से धनबाद से बोकारो आया था। यहां बैंक में चोरी करने के बाद वह पूरे गिरोह के साथ कोलकाता चला गया। वहां तीन दिन बाद हसन ने प|ी और तीनों बेटियों को भी वहीं बुलवा दिया और हावड़ा के ज्यादा पाड़ा में उन्हें रखवा दिया। कतरास के ही रहने वाला अकबर उसके परिवार के सदस्यों को हावड़ा लाया था।

तीन महीने बाद हिस्से का पैसा देने का दिया था आश्वासन

जावेद ने पुलिस को बताया कि चोरी की घटना के बाद उसे एक भी पैसा नहीं मिला था। चोरी के सामान बिकने पर तीन माह बाद उसके हिस्से का पैसा देने का आश्वासन दिया गया था। हावड़ा में रहने के दौरान बीच बीच में आकर हसन उसे खर्चा दिया करता था।

चोरी गए सामान के बारे में उसने नहीं दी कोई जानकारी

पुलिस की पूछताछ में उसने चोरी गए जेवरातों के बारे में कोई भी जानकारी नहीं दी। उसने कहा कि बैंक में चोरी करने के बाद दो बैग में भरकर जेवरात वे लोग ले गए थे। दोनों बैग हसन अपने साथ ले गया और जेवरात बेचकर पैसा देने की बात कही। कहा जेवरात के बारे में पता नहीं।