Hindi News »Jharkhand »Bokaro» जिला प्रशासन के सामने है बड़ी चुनौती 27 दिनों में बनाने हैं 36120 शौचालय

जिला प्रशासन के सामने है बड़ी चुनौती 27 दिनों में बनाने हैं 36120 शौचालय

जिला प्रशासन के सामने बड़ी चुनौती है। जिले के छह प्रखंडों के 92 पंचायतों को ओडीएफ करने के लिए प्रशासन को कड़ी मशक्कत...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 04, 2018, 02:10 AM IST

जिला प्रशासन के सामने बड़ी चुनौती है। जिले के छह प्रखंडों के 92 पंचायतों को ओडीएफ करने के लिए प्रशासन को कड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है। मार्च के अंत तक यहां के सभी पंचायतों को ओडीएफ करना है। इसके लिए मात्र 27 दिन शेष रह गए हैं। चार सप्ताह में 36120 शौचालयों का निर्माण करना है। उपायुक्त मृत्युंजय कुमार वर्णवाल ने इसके लिए अलग-अलग अधिकारियों को पंचायत वार गोद लेेने के लिए कहा है। डीसी ने तो यह प्रतिनियुक्ति 20 फरवरी को ही कर दी है, लेकिन अधिकतर पंचायतों में अधिकारी अभी तक नहीं पहुंचे हैं। जबकि डीसी ने पंचायत एडाप्टरों को अपने-अपने पंचायतों का भ्रमण कर वहां के मुखिया, वार्ड सदस्य, पंचायत सेवक, जल सहिया आदि से संपर्क स्थापित कर आपसी समन्वय के साथ शौचालय निर्माण के कार्य को गति प्रदान करते हुए पूरा करने को कहा है। ऐसे डीसी ने सभी अधिकारियों को पांच मार्च को शौचालय के लिए गड्ढा खोदाे अभियान चलाने को कहा है।

किस प्रखंड में कितना बनाना है शौचालय

जिले के नावाडीह में 2738, गोमिया में 6667, चंदनकियारी में 11031, चास में 8487, जरीडीह में 5405, चंद्रपुरा में 1792 शौचालय का निर्माण करना है।

प्रतिदिन बनाने होंगे 1337 शौचालय

छह प्रखंडों में दिए गए टारगेट को पूरा करने के लिए जिला प्रशासन को प्रतिदिन 1337 शौचालय का निर्माण करना है। तभी यह टारगेट पूरा हो सकेगा। उपायुक्त ने नावाडीह के 08, गोमिया के 15, चंदनकियारी के 27, चास के 27, जरीडीह के 10, चंद्रपुरा के 05 पंचायतों को ओडीएफ करने के लिए पंचायत एडॉप्टर को प्रतिनियुक्त किया है।

पंचायत एडाप्टरों का बना है व्हाट्स एप ग्रुप

शौचालय निर्माण को गति देने के लिए पंचायत एडाप्टरों का एक व्हाट्स एप ग्रुप बनाया गया है। साथ ही स्वच्छ भारत मिशन की जिला स्तर पर बेहतर माॅनीटरिंग करने के लिए 07 कोषांगों का गठन किया गया है। डीसी ने स्वच्छ भारत मिशन को सफल बनाने के लिए मेसन कोषांग, मैटेरियल कोषांग, वाहन कोषांग, वित्तीय कोषांग, जन जागरूकता कोषांग, मीडिया कोषांग एवं निगरानी कोषांग गठित करने को कहा है।

किस प्रखंड में किन पंचायतों को करना है ओडीएफ

नावाडीह- अहारडीह , दहियारी, कछो, कंजकिरो , खरपीटो, पलामू, पेंक , पोस्टो । गोमिया- बरकी सिधवारा , बरकी चिदरी , तिलैया , करीखुर्द , चुट्‌टे , धवैया , कोदवाटांड़ , बरकी पुन्नू, पचमो, हुरुंग, चतरो चट्टी, लोदी, टिकाहारा, कुंदा, बंध । चंदनकियारी- बाटबिनोर , नयावन , सिलफोर , अमलाबाद , देवग्राम , सियालजोरी , महाल पूर्वी , शिव बाबूडीह , भोजूडीह पश्चिमी, माढ़रा, लाखला, सिमुलिया, बड़ाजोर, चंद्रा, साबड़ा, कुमीरडोबा, चंदनकियारी पश्चिमी, चंदनकियारी पूर्वी, नावाडीह, अमाईनगर, बोरियाडीह, अड़िता, डेमूडीह, कलिकापुर, लंका, खेड़ाबेड़ा, गम्हरिया। चास- मानगो, चैनपुर, सुनता, उकरीद, घटियाली पूर्वी, सोनाबाद, कालापाथर, भतुआ, चंदाहा,मधुनियां, अलकुशा, ब्राह्मण द्वारिका, बांधडीह, कोलबेंदी, बाबूडीह, पुंडरू, बारपोखर, भंडरो, चाकुलिया, काशी झरिया, उलगोड़ा, पिंड्राजोरा, टूपरा, कुमारदागा, पोखन्ना, सरदाहा, मिर्धा। जरीडीह- खूंटरी, बारू, टांड़ बालीडीह, अरालडीह, गायछंदा, गांगजोरी, चिलगड्‌डा, बेलडीह, भस्की, अराजू। चंद्रपुरा- दुग्दा पूर्वी, कुरूमदा, तेलो पूर्वी, पपलो, तारानारी।

बहुत बड़ी चुनौती है, मार्च तक पूरा हो जाएगा काम

31 मार्च तक शौचालय निर्माण पूरा करने की चुनौती है। लेकिन उसे पूरा कर लिया जाएगा। पांच को गड्ढा खोदा अभियान चलाया जाएगा। यह अभियान सप्ताह भर चलेगा। काम पूरा करने के लिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है। साथ ही महिला समूह को इसमें लगाने के लिए उसे प्रशिक्षण दिया जा रहा है। शौचालय निर्माण के लिए सामान की कोई दिक्कत नहीं है। सभी एडाप्टरों को दिशा-निर्देश दिया गया है। जिला प्रशासन के सामने चुनौती है, जिसे स्वीकार कर पूरा किया जाएगा।'' मृत्युंजय कुमार वर्णवाल, डीसी, बोकारो।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bokaro News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: जिला प्रशासन के सामने है बड़ी चुनौती 27 दिनों में बनाने हैं 36120 शौचालय
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Bokaro

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×