दागियों को पोलिंग एजेंट नहीं बना सकेंगे प्रत्याशी, बूथ में मोबाइल रखने पर रोक

Bokaro News - विधानसभा चुनाव में स्वच्छ छवि वाला व्यक्ति ही प्रत्याशी का पाेलिंग एजेंट बन सकता है। निर्वाचन आयोग ने इस संबंध...

Nov 11, 2019, 06:20 AM IST
विधानसभा चुनाव में स्वच्छ छवि वाला व्यक्ति ही प्रत्याशी का पाेलिंग एजेंट बन सकता है। निर्वाचन आयोग ने इस संबंध में निर्देश जारी किया है। जिला प्रशासन ने भी भारतीय दंड विधान की धारा 107 के तहत 2715 से अधिक लोगों को प्रतिबंधित किया है। प्रतिबंधित व्यक्तियों को अगर कोई प्रत्याशी पोलिंग एजेंट बनाता है तो मतदान के दिन उसे हिरासत में ले लिया जाएगा। जिला प्रशासन पोलिंग एजेंटों की सूची और प्रतिबंधित व्यक्तियों की सूची का मिलान करेगा। वहीं पाेलिंग एजेंट बूथ में अपने पास मोबाइल भी नहीं रख सकेंगे। इतना ही नहीं संबंधित मतदान केन्द्र का व्यक्ति ही पोलिंग एजेंट बन सकता है। पोलिंग एजेंट को निर्वाचन आयोग की ओर से जारी फोटो पहचान पत्र भी अपने साथ रखना होगा। ऐसा नहीं होने पर उन्हें मतदान केन्द्र में बैठने की अनुमति नहीं दी जाएगी। पाेलिंग एजेंट अपने साथ हथियार अथवा अंगरक्षक लेकर मतदान केन्द्र के अंदर नहीं जा सकेंगे। प्रत्याशी सरकारी अंगरक्षक के अलावा मतदान के दिन निजी अंगरक्षक को अपने साथ लेकर नहीं चल सकते।

प्रचार थमने के साथ क्षेत्र छाेड़ जाना होगा बाहरी प्रचारकों को

बोकारो में दो चरणों में विधानसभा चुनाव होगा। तीसरे चरण में गोमिया और बेरमो विधानसभा और चौथे चरण में बोकारो और चंदनकियारी विधानसभा का चुनाव होगा। तीसरे चरण की अधिसूचना 16 नवंबर को लागू होगी। नामांकन की अंतिम तिथि 25 नवंबर होगी। जबकि स्क्रूटनी 26 नवंबर को होगी। नाम वापस लेने की तिथि 28 नवंबर है। इसके बाद 12 दिसंबर को चुनाव होगा। वहीं चौथे चरण की अधिसूचना 22 नवंबर को लागू होगी। इसके नामांकन की अंतिम तिथि 29 नवंबर होगी। जबकि स्क्रूटनी 30 नवंबर को होगी। नाम वापस लेने की तिथि 02 दिसंबर है। इसके बाद 16 दिसंबर को चुनाव होगा। यहां प्रचार समाप्त होने के साथ ही राजनीतिक गतिविधियों में शामिल होने वाले वैसे व्यक्ति जो इस क्षेत्र के मतदाता नहीं है, उन्हें जिला छोड़कर जाना होगा।

मतदान केन्द्र के आसपास नहीं रहेगी भीड़

मतदान केन्द्र के आसपास भीड़ लगने नहीं दी जाएगी। इसके लिए जिला निर्वाचन पदाधिकारी ने दंडाधिकारी एवं पुलिस अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है। मतदान केन्द्र से 200 मीटर के दायरे के बाहर प्रत्याशी की आेर से केवल एक कुर्सी और दो टेबल लगाया जा सकता है। धूप से बचने के लिए छाता लगाने की अनुमति रहेगी। छाता के पास साढ़े तीन फीट का चौड़ा पोस्टर ही लगाया जा सकता है। प्रत्याशी की ओर से मतदान केन्द्र के समीप लगने वाले बूथ से केवल गैर विभागीय वोटर पर्ची ही बांटी जा सकती है। इस दौरान वहीं एक ही व्यक्ति उपस्थित रहेगा। वहीं जिला प्रशासन बीएलओ के माध्यम से मतदाताओं को उनकी पर्ची बांटी जाएगी।

शपथ पत्र के बाद पंपलेट की छपाई कर सकेंगे

विधानसभा चुनाव में प्रत्याशी के पंपलेट आदि छापने से पहले प्रिंटिंग प्रेस संचालक प्रत्याशी से शपथ पत्र लेंगे। आदर्श आचार संहिता लागू होने के साथ ही यह नियम लागू हो गया है। आदर्श आचार संहिता प्रभावी रहने के दौरान किसी भी राजनीतिक दल एवं अभ्यर्थी की अाेर से चुनाव प्रचार के लिए पोस्टर बैनर मुद्रण के लिए राजनीतिक दल एवं अभ्यर्थी से विधिवत अधियाचना एवं शपथ पत्र करने के बाद मुद्रण करना है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना