बोकारो

  • Home
  • Jharkhand News
  • Bokaro News
  • आदिवासी क्षेत्र में 21 के बंद को सफल बनाने का निर्णय
--Advertisement--

आदिवासी क्षेत्र में 21 के बंद को सफल बनाने का निर्णय

जानकारी देते पार्टी के नेता। सिटी रिपोर्टर | बोकारो झारखंड दिशोम पार्टी और आदिवासी सेंगेल अभियान की बैठक...

Danik Bhaskar

May 18, 2018, 02:55 AM IST
जानकारी देते पार्टी के नेता।

सिटी रिपोर्टर | बोकारो

झारखंड दिशोम पार्टी और आदिवासी सेंगेल अभियान की बैठक गुरुवार को सेक्टर 12 में हुई। इसमें 21 मई को आदिवासी बहुल क्षेत्रों में भारत बंद को सफल बनाने पर चर्चा हुई। जेडीपी और एएसए के अध्यक्ष पूर्व सांसद सालखन मुर्मू ने लिंगायत धर्म के साथ सरना धर्म को भी मान्यता देने और अलग धर्म कोड को लेकर आंशिक भारत बंद (आदिवासी बाहुल क्षेत्र) का आह्वान किया है। बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाध्यक्ष खिरोधर मुर्मू ने कहा कि करोड़ों आदिवासियों का धर्म सरना की मान्यता नहीं देकर केंद्र सरकार आदिवासियों को संवैधानिक अधिकारों से वंचित करना चाहती है। जब तक सरना धर्म को सरकार मान्यता नहीं देगी, झारखंड दिशोम पार्टी और आदिवासी सेंगेल अभियान का आंदोलन जारी रहेगा। आदिवासी सेंगेल अभियान के प्रदेश संयोजक हराधन मरांडी ने कहा कि 21 मई के आंशिक भारत बंद को पूरे प्रदेश में जोरदार तरीके से सफल बनाया जाएगा। बैठक में करमचंद हांसदा, अरुण किस्कू, डॉ.दुलाल हल्दर , गोपाल महली, संतोष सोरेन आदि थे।

सिटी रिपोर्टर | बोकारो

झारखंड दिशोम पार्टी और आदिवासी सेंगेल अभियान की बैठक गुरुवार को सेक्टर 12 में हुई। इसमें 21 मई को आदिवासी बहुल क्षेत्रों में भारत बंद को सफल बनाने पर चर्चा हुई। जेडीपी और एएसए के अध्यक्ष पूर्व सांसद सालखन मुर्मू ने लिंगायत धर्म के साथ सरना धर्म को भी मान्यता देने और अलग धर्म कोड को लेकर आंशिक भारत बंद (आदिवासी बाहुल क्षेत्र) का आह्वान किया है। बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाध्यक्ष खिरोधर मुर्मू ने कहा कि करोड़ों आदिवासियों का धर्म सरना की मान्यता नहीं देकर केंद्र सरकार आदिवासियों को संवैधानिक अधिकारों से वंचित करना चाहती है। जब तक सरना धर्म को सरकार मान्यता नहीं देगी, झारखंड दिशोम पार्टी और आदिवासी सेंगेल अभियान का आंदोलन जारी रहेगा। आदिवासी सेंगेल अभियान के प्रदेश संयोजक हराधन मरांडी ने कहा कि 21 मई के आंशिक भारत बंद को पूरे प्रदेश में जोरदार तरीके से सफल बनाया जाएगा। बैठक में करमचंद हांसदा, अरुण किस्कू, डॉ.दुलाल हल्दर , गोपाल महली, संतोष सोरेन आदि थे।

Click to listen..