• Home
  • Jharkhand News
  • Bokaro News
  • सीसीएल कारो स्पेशल फेज दो परियोजना में चोरों का उत्पात
--Advertisement--

सीसीएल कारो स्पेशल फेज दो परियोजना में चोरों का उत्पात

भास्कर न्यूज | बोकारो थर्मल बोकारो थर्मल के सीसीएल कारो स्पेशल फेज दो परियोजना में धावा बोलकर परियोजना के...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 02:55 AM IST
भास्कर न्यूज | बोकारो थर्मल

बोकारो थर्मल के सीसीएल कारो स्पेशल फेज दो परियोजना में धावा बोलकर परियोजना के मैनेजर शंभुनाथ के कार्यालय एवं अन्य कार्यालयों का ताला तोड़कर कार्यालयों में रखे गए कागजातों को फेंकने के साथ ही चोरों ने कागजातों को नष्ट कर दिया। पत्थरबाजी की एवं सेफ्टी ऑफिस का ताला तोड़ाकर ट्रांसफर्मर को चोरी करने का असफल प्रयास किया। घटना बुधवार-गुरूवार की रात्रि एक बजे की है। चोरी की लिखित सूचना परियोजना के सुरक्षा इंचार्ज महावीर गोप ने स्थानीय थाने को दे दी है। घटना के संबंध में बताया जाता है कि रात्रि लगभग एक बजे चोरों के दल ने हाई वोल्टेज को ट्रिप कराकर परियोजना कार्यालय पर धावा बोल दिया एवं मैनेजर के कार्यालय में रखे कागजातों को तहस नहस कर दिया। प्रशासन की गाड़ी पर पथराव किया। यह उत्पात लगभग 1 बजे रात्रि से लेकर 2:30 तक चला।

बताया जाता है कि चोरों के बार बार हमले का कारण परियोजना में रखा लोहा है। जिसे ले जाने की कोशिश लगातार चोर कर रहे हैं। इस संबंध में थाना प्रभारी परमेश्वर लियांगी से बताया कि सूचना मिलने के बाद पुलिस की टीम घटना स्थल पर पहुंची ओर तलाशी का काम शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि जल्द ही घटना का उद्भेदन कर लिया जाएगा। मालूम हो कि परियोजना कार्यालय पर चोरों ने विगत तीन माह के दौरान एक दर्जन से भी ज्यादा बार धावा बोलकर सामानों, ट्रांसफार्मर, केबल, लोहा एवं खदानों के उपस्कर, पंखा, कुर्सी टेबल की चोरी कर ली है।

बंद प्रोजेक्ट कार्यालय।

2016 से ही बंद है प्रोजेक्ट

कारो स्पेशल फेज दो परियोजना विगत फरवरी 2016 से ही बंद पड़ा है। प्रोजेक्ट के लगातार घाटे में चलने के कारण इसे बंद कर दिया गया है। प्रोजेक्ट बंद होने के बाद खदानों के उपकरणों, कार्यालयों, आवासीय कॉलोनी का जिम्मा सीआईएसएफ के हवाले ही थी। प्रोजेक्ट बंद होने के डेढ़ वर्ष बाद नवंबर 2017 में प्रोजेक्ट से सीसीएल प्रबंधन ने सीआईएसएफ को हटा लिया है। सीआईएसएफ के हटने के साथ ही चोरों ने अपना उत्पात शुरू कर दिया है। बंद परियोजना के आवासीय कॉलोनी में 70 कामगार हैं। स्थानीय थाना की पुलिस प्रतिदिन परियोजना में रात्रि गश्ती में आती है। बावजूद चोरों का आतंक कम नहीं हो रहा है।

परियोजना के मैनेजर शंभुनाथ का कहना है कि हम सारी रात चैन से सो नहीं पाते। रात जागकर ही बितानी पड़ती है कि कब चोरों का झुंड धावा बोलकर चोरी की घटना को अंजाम दे देगा। मैनेजर ने परियोजना सहित खासमहल के पीओ एमके पंजाबी को पत्र लिखकर परियोजना में बढ़ती लगातार चोरी की घटना को देखते हुए रात्रि में सीआईएसएफ से गश्ती करवाने की मांग की है।

क्या कहते हैं मैनेजर