परोपकार ही सबसे बड़ा धर्म अाैर पीड़ा देना पाप : आचार्य

Bokaro News - जब जब धरती पर अत्याचार बढ़ा तब तब संहार करने के लिए भगवान को किसी न किसी रुप में अवतरित होना पड़ा है। ये बातें...

Feb 23, 2020, 06:16 AM IST
BhoJhudih News - philanthropy is the biggest religion and suffering is sin acharya

जब जब धरती पर अत्याचार बढ़ा तब तब संहार करने के लिए भगवान को किसी न किसी रुप में अवतरित होना पड़ा है। ये बातें गोठेश्वर मंदिर में आयोजित श्री-श्री गीता महायज्ञ के दूसरे दिन व्यास पीठ से आचार्य कमल ओझा ने कही।

आचार्य ने राम चरित मानस पाठ के शिव पार्वती विवाह का वर्णन करते हुए कहा कि भोलेनाथ ने विवाह भी परोपकार के लिए किया। दैत्य ताड़कासुर के अत्याचार से देव लोक में हाहाकार मचा था। ताड़कासुर का वध शिव पार्वती से उत्पन्न संतान से ही संभव था। इसलिए भगवान शिव विवाह के लिए राजी हुए। शिव विश्वास तथा पार्वती श्रद्धा की प्रतीक हैं। जब श्रद्धा व विश्वास का मिलन होता है, तब पुरूषार्थ रूपी कार्तिकेय का जन्म होता है अाैर ताड़कासुर रूपी अंधकार का नाश होता है। कहा कि मनुष्य जीवन में भी परोपकार की भावना होनी चाहिए। परोपकार से बड़ा धर्म कुछ नहीं हो सकता व दूसरों को पीड़ा देना सबसे बड़ा पाप है। युवाओं में अपने परिवार के अलावे राष्ट्र हित की भावना को जागृत करना चाहिए। इस दौरान पंडित अमर नाथ पांडेय के भजनाें पर श्राेताअाें ने भक्तिरस में गाेते लगाए। शनिवार काे श्रद्धालुओं ने यज्ञ मंडप की परिक्रमा की।

धर्म हमें ले जाता है परमार्थ के मार्ग पर : धर्मवीर

बोकारो | हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी राष्ट्रीय युवा वाहिनी एवं राष्ट्र भक्त समाज की अाेर से सेक्टर 4 डी डीएवी विद्यालय के सामने श्री उमा त्र्यंबकेश्वरनाथ शिव मंदिर में महाशिवरात्रि रात्रि मे महादेव शिव पार्वती का विवाह समारोह सम्पन्न हुआ। इससे पहले राष्ट्र भक्त समाज के केन्द्रीय अध्यक्ष धर्मवीर सिंह के नेतृत्व में जयवीर सिंह गुड्डू,जसवीर सिंह, राजीव रजनीश,अरुण कुमार, चंदन यादव,ओमप्रकाश रजक,महेन्द्र सिंह, वीणा सिंह, अनुराधा सिंह, मुन्नी सिंह, त्रिनंदन के साथ सैकड़ों महिला पुरुष, भूत-प्रेत भगवान शंकर के बारातियों के रूप में भोलेनाथ के मंदिर पहुंचे।

रामचरित मानस कथा सुनाते अाचार्य।

X
BhoJhudih News - philanthropy is the biggest religion and suffering is sin acharya

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना