तीसरी से 12वीं क्लास तक के स्टूडेंट्स अपनी कक्षा में सुनाएंगे कहानियां

Bokaro News - एक वचन ने बहुवचन से क्या कहा? जब संज्ञा ने खोले अपने भेद और टेरोकोटा की कहानी पर छात्रों से बात करें तो हर छात्र...

Bhaskar News Network

Nov 11, 2019, 06:20 AM IST
Bokaro News - students from 3rd to 12th class will tell stories in their class
एक वचन ने बहुवचन से क्या कहा? जब संज्ञा ने खोले अपने भेद और टेरोकोटा की कहानी पर छात्रों से बात करें तो हर छात्र अपने-अपने तरीके से उसे सुनाता है। उनकी इसी प्रतिभा को उभारने के लिए सीबीएसई के सभी संबद्ध स्कूलों की तीसरी से 12वीं क्लास तक के छात्र-छात्राओं के लिए कहानी सुनाओ प्रतियोगिता शुरू करने की घोषणा की है। जो चार श्रेणी में होगी। रीजनल लेवल पर सार्टिफिकेट और नेशनल लेवल की प्रतियोगिता जीतने वाले को मेडल और सर्टिफिकेट दोनों दिया जाएगा। इसके इंटरनल एसेसमेंट के फोर्टफोलियो में वेटेज मिलेगा। अलग-अलग वर्ग में दो मिनट से 4 मिनट के बीच स्कूल, रिजन और फिर नेशनल लेवल पर कहानी सुनाती हुई वीडियो बनाकर अपलोड करनी है। सीबीएसई ने मेरी कहानी-मेरी जुबानी प्रतियोगिता के लिए स्कूल लेवल पर 18-23 नवंबर के बीच सभी श्रेणी में प्रतियोगिता कराने के बाद एक-एक हर श्रेणी का चुनकर भेजने को कहा है। रीजनल लेवल प्रतियोगिता स्टोरी टेलिंग एप पर डिजिटल 24-30 नवंबर के बीच होगी।

20 दिसंबर तक चार श्रेणी में होगी प्रतियोगिता

स्कूलों को अपने छात्रों का रजिस्ट्रेशन करना होगा जो स्कूल स्तर की प्रतियोगिता कराने के बाद हर श्रेणी से 1-1 यानी 4 छात्रों का होगा। रजिस्ट्रेशन 24-30 नवंबर के बीच सीबीएसई की स्टोरी टेलिंग पोर्टल पर होगा जिसके लिए हर स्कूल को ऑनलाइन या डेबिड-क्रेडिट कार्ड से 1000 रुपए की फीस चुकानी होगी। इसी दौरान स्कूल की तरफ से चारो प्रतिभागियों का वीडियो स्टोरी टेलिंग सीबीएसई एप के माध्यम से अपलोड करना होगा। किसी भी तरह की आशंका में सीबीएसई की ईमेल आईडी [email protected] से या फोन नंबर 011-23211200 पर संपर्क कर सकता है।

सैटेलाइट एप से सीबीएसई करेगा बोर्ड की प्रायोगिक परीक्षाओं की निगरानी

सीबीएसई ने इस बार प्रायोगिक परीक्षाओं की निगरानी के लिए तकनीक का सहारा लेगा। इसके लिए बोर्ड ने सैटेलाइट एप बनाया है। इस एप को उन सभी स्कूलों को डाउनलोड करना होगा, जिनको इस बार बोर्ड की प्रायोगिकी परीक्षाओें का सेंटर बनाया जाएगा। इसके जरिए स्कूलों को प्रायोगिक परीक्षा का एक फोटोग्राफ, बैच, समय और छात्रों की संख्या बोर्ड के एप पर अपलोड करना होगा।

यह दिए बोर्ड ने निर्देश | बोर्ड द्वारा जारी सूचना के अनुसार सभी सीबीएसई स्कूलों में सत्र 2020 के लिए प्रैक्टिकल एक्जाम और प्रोजेक्ट्स असेसमेंट की प्रक्रिया 1 जनवरी 2020 से शुरू होनी हैं। ये परीक्षाएं 7 फरवरी 2020 तक संचालित की जा सकती हैं। वहीं, कौशल विषयों के लिए थ्योरी परीक्षाएं 15 फरवरी 2020 से शुरू हो सकती हैं। प्रैक्टिकल परीक्षाएं और प्रोजेक्ट असेसमेंट स्कूल खुद ही करेंगे। पहले की तरह ही इस बार भी इन परीक्षाओं में एक इंटर्नल और एक एक्सटर्नल एग्जामिनर होंगे।

X
Bokaro News - students from 3rd to 12th class will tell stories in their class
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना