सीबीएसई स्कूलों के स्टूडेंट्स अब करेंगे आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस की भी पढ़ाई

Bokaro News - बच्चों काे किताबी ज्ञान के साथ ही उनके स्किल डेवलपमेंट के लिए सीबीएसई स्कूलाें में कुछ नए काेर्स की पढ़ाई हाेगी।...

Bhaskar News Network

Jun 15, 2019, 06:20 AM IST
Bokaro News - students of cbse schools will now also study artificial intelligence
बच्चों काे किताबी ज्ञान के साथ ही उनके स्किल डेवलपमेंट के लिए सीबीएसई स्कूलाें में कुछ नए काेर्स की पढ़ाई हाेगी। इसकी शुरुअात जून के अंतिम सप्ताह से होगी। इसके लिए सीबीएसई ने नए विषयों को करिकुलम में शामिल किया है। इनमें आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई), योगा और अर्ली चाइल्डहुड केयर एंड एजुकेशन सहित अन्य विषय शामिल हैं। पांच कंपल्सरी सब्जेक्ट के अलावा छठे ऑप्शनल सब्जेक्ट के रूप में स्टूडेंट इनमें से किसी एक काे चुन सकेंगे। सीबीएसई का मानना है कि एआई देश की इकानॉमिक ग्रोथ और सोशल डेवलपमेंट का महत्वपूर्ण पहलू है। इसलिए इसे कॅरिकुलम में शामिल किया जा रहा है। सेकेंडरी लेवल पर 17 और सीनियर सेकेंडरी लेवल पर 42 स्किल सब्जेक्ट्स हैंं।

नए सेशन से इन सब्जेक्ट्स को स्टूडेंट्स कॅरियर ऑप्शन के रूप में चुन सकते हैं। बोर्ड अब नॉलेज इंटेंसिव एजुकेशन की जगह स्किल बेस्ड एजुकेशन पर जाेर दे रहा है। इसलिए ये बदलाव किए जा रहे हैं। इससे पहले इंस्पायर मॉड्यूल के रूप में 8वीं के बच्चों के लिए 12 घंटे का एक सेशन होगा।

शिक्षकाें की क्षमता का भी किया जाएगा विकास

9वीं और 10वीं के स्टूडेंट्स के लिए आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस में रिटेल, आईटी, सिक्योरिटी, ऑटोमोटिव, ब्यूटी एंड वेलनेस, एग्रीकल्चर, फूड प्रोडक्शन, बैंकिंग एंड इंश्योरेंस, मार्केटिंग एंड सेल्स, हेल्थकेयर, अपैरल और मीडिया जैसे कोर्स शामिल किए जा रहे हैं। वीं, सीनियर सेकेंडरी स्टूडेंट्स के लिए योग और अर्ली चाइल्डहुड केयर एंड एजुकेशन के अलावा एप्लाइड फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथेमेटिक्स, मेडिकल डायग्नोस्टिक्स, टेक्सटाइल डिजइन, फूड न्यूट्रीशन एंड डाइटेटिक्स, फैशन स्टडीज जैसे सब्जेक्ट शामिल हैं। इन सभी सब्जेक्ट के सक्सेसफुल इम्प्लिमेंटेशन के लिए बोर्ड टीचर्स की कैपेसिटी बिल्डिंग के अलावा अन्य मदद भी करेगा।

स्कूली छात्रों को नासा व इसरो जाने का मिलेगा मौका

बोकारो |
सरकारी व निजी स्कूलों में पढ़ने वाले स्टूडेंट्स को अंतरिक्ष में घटने वाली घटनाओं की जानकारी अब नासा अाैर इसरो के साइंटिस्ट देंगे। इसके लिए आईआईटी की ओर से आईआईटी टेक्नोथलाॅन एग्जाम का आयोजन किया जाएगा। इसमें कक्षा 9वीं से 12वीं तक के स्टूडेंट्स भाग ले सकते हैं। जूनियर और सीनियर कैटेगरी के स्टूडेंट्स के लिए यह एग्जाम दो चरणों में होगा। दोनों ही कैटेगरी के विजेताओं को आईआईटी की ओर से अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) जाने का मौका मिलेगा। जबकि रनरअप टीम के सदस्यों को इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (इसरो) का भ्रमण करने का मौका मिलेगा।

14 जुलाई को होगा प्रीलिम्स एग्जाम

आईआईटी गुवाहाटी की ओर से जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक संस्थान हर साल यह एग्जाम कराता है। पहली कैटेगरी में 9वीं व 10वीं, जबकि दूसरी कैटेगरी में 11वीं व 12वीं के दो-दो स्टूडेंट्स की टीम शामिल हो सकेगी। 14 जुलाई को होने वाले प्रीलिम्स एग्जाम के आधार पर टॉप 100 स्टूडेंट्स का चयन मेन के लिए हाेगा। ढाई घंटे चलने वाले प्रीलिम्स एग्जाम में मैथ्स के सवालों के अलावा पजल्स, कोड क्रंचर्स जैसी चीजें पूछी जाएंगी। अधिक जानकारी के लिए वेबसाइट www.technothlon.technic.org पर विजिट कर सकते हैं।

X
Bokaro News - students of cbse schools will now also study artificial intelligence
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना