आरवीएस के शिक्षक अाैर कर्मियाें की आर्थिक हालत हाे गई है खस्ता

Bokaro News - बोकारो के आरवीएस इंटर काॅलेज के शिक्षकों एवं शिक्षकेत्तर कर्मियाें की हालत खस्ता हाे गई है। 27 महीनों से शिक्षकों...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 06:21 AM IST
Bokaro News - the financial condition of rvs teachers and workers is crispy
बोकारो के आरवीएस इंटर काॅलेज के शिक्षकों एवं शिक्षकेत्तर कर्मियाें की हालत खस्ता हाे गई है। 27 महीनों से शिक्षकों व शिक्षकेतर कर्मियों का वेतन बकाया है। शिक्षक मनोज कुमार तिवारी ने कहा कि वेतन नहीं मिलने की वजह से कर्मचारियों के साथ-साथ उनके परिजनों की स्थिति दयनीय हो गई है। लगभग 50 इंटर कॉलेज कर्मी अब अपनी मांग को लेकर आंदोलन की राह पकड़ चुके हैं। 11 सितंबर से चल रही हड़ताल शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन भी जारी रही और कॉलेज का कामकाज ठप पड़ा रहा। हड़ताली शिक्षकों का कहना है कि प्राचार्य की अकुशलता और लापरवाही के कारण चार महीने पहले आ चुकी अनुदान की राशि उन्हें आज तक नहीं मिल सकी है। फरवरी 2018 में शासी निकाय भंग होने के बाद मई-जून में तदर्थ समिति का गठन कर दो-दो बार शिक्षक प्रतिनिधि का चुनाव किया गया, लेकिन इसके बाद भी शासी निकाय का गठन नहीं करवाया गया। इसी का दुष्परिणाम है कि आज तक कॉलेजकर्मियों को उनका वेतन नहीं मिल सका है। वर्ष 2017-18 में सरकार से मिलने वाली अनुदान राशि चार महीने से आकर पड़ी है, परंतु प्राचार्य की शिथिलता के कारण आज वे लोग परेशान हैं। मौके पर हड़ताली कर्मियों में सुबोध कुमार अड्डी, सुदीप कुमार सिंह, सुग्रीव कुमार सिंह, रवि दास, प्रभा शंकर सिंह, एचएन पाठक, शिवनाथ प्रसाद सिंह, विद्या भूषण, बादल चंद्र राय, राम जनम राम, बीबी पांडेय, दिवाकर बनर्जी, दामोदर सिंह, रामरतन तिवारी, बीके साहा, विजय कुमार आदि रहे।

नारेबाजी करते हड़ताली शिक्षक और कर्मी।

दो हफ्ते में हो जाएगा समाधान ः प्राचार्य

हड़ताली कर्मचारियों के आरोपों अाैर 27 महीने से लंबित वेतन के मामले में पूछे जाने पर आरवीएस इंटर कॉलेज के प्राचार्य प्रभारी अश्विनी कुमार सिंह का कहना है कि वह स्वयं लंबित वेतन के कारण भुक्तभोगियों में से एक हैं। उन्होंने अपनी ओर से किसी भी तरह की लापरवाही बरते जाने की बात से इनकार करते हुए कहा कि उन्होंने अपने स्तर से शिक्षकों के हित में कभी भी कोई कोताही नहीं बरती है। उन्होंने बताया कि शिक्षक प्रतिनिधि एवं शासी निकाय के संदर्भ में उन्होंने अपनी ओर से जैक से संपुष्टि के लिए भेजा है। शासी निकाय का कार्य अगले सप्ताह तक पूर्ण हो जाने की संभावना है और उसके बाद आनन-फानन में कमेटी बनाकर शिक्षकों के बीच आए हुए 22 लाख रुपए का वितरण कर दिया जाएगा।

X
Bokaro News - the financial condition of rvs teachers and workers is crispy
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना