हड़ताल की चर्चा के आगे बोनस का मुद्दा दब गया

Bokaro News - कोयला उद्योग में 100 फीसदी एफडीआई के फैसले के खिलाफ यूनियनों के हड़ताल की घोषणा की चर्चा के आगे कोल कर्मियों के...

Sep 14, 2019, 06:16 AM IST
Bermo News - the issue of bonus got buried in front of the discussion of strike
कोयला उद्योग में 100 फीसदी एफडीआई के फैसले के खिलाफ यूनियनों के हड़ताल की घोषणा की चर्चा के आगे कोल कर्मियों के सलाना बोनस का मुद्दा गुम हो गया है। बोनस मिलने को लेकर कोल कर्मी आश्वस्त है। लेकिन वह चाहते हैं कि इस पर साफ हो जाए कि इस बार कितना बोनस मिलेगा। कोयला मजदूरों में तरह-तरह की चर्चा है। इसमें बोनस पर बैठक हड़ताल शुरू होने के पहले होगी या हड़ताल समाप्ति के बाद। हड़ताल कितनों दिनों तक चलेगी यही चर्चा हो रही है।

वैसे तो संयुक्त मोर्चा में शामिल एटक, इंटक, सीटू, एक्टू ने 24 सितंबर को एक दिवसीय सांकेतिक हड़ताल का एलान किया है। वहीं बीएमएस ने 23 से 27 सितंबर तक पांच दिनों की हड़ताल की घोषणा की है। जबकि शारदीय नवरात्र की शुरुआत 29 सितंबर से होगी। 31 अगस्त को दिल्ली में संपन्न मानकीकरण कमेटी की बैठक में कोल इंडिया प्रबंधन ने बोनस पर 14 सितंबर को बैठक करने की बात कही थी, पर आजतक इसकी सूचना यूनियन नेताओं को नहीं मिली है।

एटक नेता रमेंद्र कुमार, सीटू के डीडी रामनंदन, शिवकांत पांडेय ने बैठक की सूचना मिलने से इनकार किया है। हड़ताल के कारण कोयला श्रमिकों के बीच केवल हड़ताल की चर्चा है। श्रमिकों का मानना है कि पिछले साल 60 हजार 500 रुपए बोनस था। तब कम्पनी को 7020 करोड़ का फायदा था। इस साल तो लाभ ज्यादा हुआ तो बोनस भी अधिक मिलाना चाहिए।

X
Bermo News - the issue of bonus got buried in front of the discussion of strike
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना