गर्मी के बीच आंधी-पानी से जनजीवन अस्त-व्यस्त, अस्पतालों व सरकारी कार्यालयों में कामकाज धीमा

Chaibasa News - आंधी-पानी के बावजूद भीषण गर्मी से लाेगाें काे नहीं मिली राहत, सोनुवा में 48 घंटे से बिजली ठप भास्कर न्यूज| सोनुआ/...

Bhaskar News Network

Jun 15, 2019, 06:25 AM IST
Chakradharpur News - between summer and rain water logging hospitals and government offices slow down
आंधी-पानी के बावजूद भीषण गर्मी से लाेगाें काे नहीं मिली राहत, सोनुवा में 48 घंटे से बिजली ठप

भास्कर न्यूज| सोनुआ/ चक्रधरपुर

आंधी पानी के कारण सोनुवा इलाके में पिछले 48 घंटे से बिजली आपूर्ति ठप है। गोईलकेरा ग्रिड से सोनुआ सब स्टेशन को अायी 33 हजार वोल्ट मेनलाइन में खराबी है। इस फॉल्ट को बिजली विभाग अब तक ढूंढ नहीं पाया है। इधर, मौसम के करवट लेने के बावजूद उमस व गर्मी से लोग परेशान हैं। सबसे ज्यादा असर अस्पतालों के मेटरनिटी वार्ड में हैं। वहां भर्ती मरीज परेशान हैं।

चक्रधरपुर में गर्मी का आलम यह है कि अनुमंडल अस्पताल में भीषण गर्मी के बीच पंखे घूम भी रहे हैं, तब पर भी लाेग खुले बदन इधर से उधर घूमने को विवश हैं। इधर, सोनुवा में शुक्रवार को भी बिजली कर्मी सुबह से मेनलाइन का काम कर रहे हैं। चक्रधरपुर में भी बिजली की आंखमिचौनी जारी है। सुबह में अासमान में बादल छाए रहने के बाद दिन भर भीषण गर्मी का सामना करना पड़ रहा है। सोनुवा बाजार में इलेक्ट्रिकल दुकानों में कामकाज ठप हैं। सरकारी दफ्तरों में भी काम की गति धीमी पड़ गई है।

सीकेपी अनुमंडल अस्पताल : बिजली गुल होने पर मेटरनिटी वार्ड से बाहर निकल जाते हैं मरीज

सोनुवा : नहीं हो पा रही ऑनलाइन इंट्री

सोनुवा में दो दिनों से लगातार बिजली आपूर्ति ठप रहने का असर प्रखंड कार्यालय में भी देखा गया। यहां प्रखंड व अंचल कार्यालय के अलावा शिक्षा, बाल विकास, कृषि आदि कार्यालय संचालित होते हैं। लगातार दो दिनों से बिजली आपूर्ति नहीं होने से यहां के कामकाज बाधित हैं। कम्प्यूटर से होनेवाले विभिन्न ऑनलाइन काम भी बाधित रहे। प्रखंड कार्यालय में संचालित होनेवाला आधार पंजीयन का काम भी बाधित रहा। कृषि आशीर्वाद योजना के आवेदनों की ऑनलाइन इंट्री भी बाधित हो रही है।

केस 1

जेनरेटर नहीं, अस्पताल के मरीज परेशान

बिजली आपूर्ति दो दिनों से ठप रहने से सोनुवा अस्पताल में भी परेशानी बढ़ गई। यहां जेनेरेटर की सुविधा भी नहीं है, जिससे बिजली के अभाव में अस्पताल में भर्ती मरीजों काे परेशानी हाे रही है। भीषण गर्मी एवं लू की चपेट में आये मरीज प्रतिदिन अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं। यहां पंखे तक नहीं चल रहे हैं।

केस 2

चक्रधरपुर: बिजली पंखा भी फेल, अस्पताल में नवजातों को परेशानी

चक्रधरपुर | शहर का पारा शुक्रवार को पिछले कुछ दिनों की अपेक्षा कम रहा। इसके बावजूद काेई राहत नहीं मिली। शुक्रवार को 43 डिग्री तापमान रहा। इस दौरान चकधरपुर अनुमंडल अस्पताल में मरीज परेशान रहे। खास कर नवजात शिशु व मेटरनिटी वार्ड में कोई खास व्यवस्था नहीं दिखी। शिशु वार्ड में परिजन बच्चों को हाथ वाले पंखे से हांकते नजर दिखे।

मरीजों ने बताया कि सोलर सिस्टम से बिजली आपूर्ति अस्पताल में कई महीने से फेल है। इससे ठीक नहीं किया गया। इस कारण बिजली कटने के दौरान कई घंटे तक परेशानी झेलनी पड़ती है। मरीज से लेकर कर्मचारी तक अस्पताल से बाहर निकल जाते हैं। रात को भी दो दो घंटे में बिजली गुल हो जा रही है। वहीं अस्पताल के कर्मचारी भी बताते हैं कि मेटरनिटी वार्ड और नर्स रूम में वायरिंग में कोई गड़बड़ी है। इस कारण कभी-कभी बिजली गुल होने पर जेनसेट चलाने से भी बिजली आपूर्ति नहीं होती है। इस संबंध में अस्पताल मैनेजर अमर कुमार ने बताया कि बिजली गुल होने पर जेनरेटर चलाया जाता है। कहीं कोई परेशानी नहीं है। अगर है भी, तो सुधारा जायेगा।

चक्रधरपुर अनुमंडल अस्पताल में नवजात काे पंखा करते परिजन।

मनोहरपुर : पारा 44 पार, दफ्तरों में सन्नाटा

मनोहरपुर में शुक्रवार को अधिकतम तापमान 44 डिग्री सेल्सियस रहा। गर्मी की वजह से जन-जीवन पूरी तरह से ठप पड़ गया। गर्मी के कारण इंसानों के अलावा जीव-जन्तुओं का यहां जीना मुहाल हो गया है। वहीं, सरकारी दफ्तरों में भी वीरानगी रही।

चक्रधरपुर | शहर का पारा शुक्रवार को पिछले कुछ दिनों की अपेक्षा कम रहा। इसके बावजूद काेई राहत नहीं मिली। शुक्रवार को 43 डिग्री तापमान रहा। इस दौरान चकधरपुर अनुमंडल अस्पताल में मरीज परेशान रहे। खास कर नवजात शिशु व मेटरनिटी वार्ड में कोई खास व्यवस्था नहीं दिखी। शिशु वार्ड में परिजन बच्चों को हाथ वाले पंखे से हांकते नजर दिखे।

मरीजों ने बताया कि सोलर सिस्टम से बिजली आपूर्ति अस्पताल में कई महीने से फेल है। इससे ठीक नहीं किया गया। इस कारण बिजली कटने के दौरान कई घंटे तक परेशानी झेलनी पड़ती है। मरीज से लेकर कर्मचारी तक अस्पताल से बाहर निकल जाते हैं। रात को भी दो दो घंटे में बिजली गुल हो जा रही है। वहीं अस्पताल के कर्मचारी भी बताते हैं कि मेटरनिटी वार्ड और नर्स रूम में वायरिंग में कोई गड़बड़ी है। इस कारण कभी-कभी बिजली गुल होने पर जेनसेट चलाने से भी बिजली आपूर्ति नहीं होती है। इस संबंध में अस्पताल मैनेजर अमर कुमार ने बताया कि बिजली गुल होने पर जेनरेटर चलाया जाता है। कहीं कोई परेशानी नहीं है। अगर है भी, तो सुधारा जायेगा।

Chakradharpur News - between summer and rain water logging hospitals and government offices slow down
X
Chakradharpur News - between summer and rain water logging hospitals and government offices slow down
Chakradharpur News - between summer and rain water logging hospitals and government offices slow down
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना