जिले में 50 फीट की बिल्डिंग, फायर ब्रिगेड के पास सिर्फ 35 फीट की सीढ़ी, इमरजेंसी में होगी मुश्किल

Chaibasa News - जिले के चाईबासा या चक्रधरपुर जैसे बड़ी आबादी वाले शहर के 50 फीट से अधिक ऊंची बिल्डिंग में कभी आग लगी तो सूरत के कोचिंग...

Bhaskar News Network

Jun 15, 2019, 06:25 AM IST
Chaibasa News - building 50 feet in the district fire brigade will have only 35 feet staircase emergency will be difficult
जिले के चाईबासा या चक्रधरपुर जैसे बड़ी आबादी वाले शहर के 50 फीट से अधिक ऊंची बिल्डिंग में कभी आग लगी तो सूरत के कोचिंग सेंटर जैसी घटना की पुनरावृत्ति होगी। दरअसल, जिले के 15 लाख की आबादी के लिए तैनात अग्निशमन विभाग के पास सिर्फ 35 फीट ऊंचाई तक कवर करने लायक सीढ़ी है। इसके ऊपर ऊंचाई में किसी बिल्डिंग में घटना हुई तो हालात मुश्किल होंगे।

जिले में आठ मिनी टाउन में बड़ी आबादी रहती है, जिनके पास अग्नि सुरक्षा के कोई निजी साधन नहीं हैं। चाईबासा मुख्यालय से ही अग्निशमन वाहन भेजे जाते हैं। जिला अग्निशामन कार्यालय में कुल छह वाहन और नौ कर्मचारी हैं। जबकि छह गाड़ियों के लिए 36 कर्मचारियों की जरूरत है। अग्निशमन विभाग में ढांचागत व्यवस्था होने के बावजूद मानव संसाधन नहीं है। विभागीय कर्मचारी बताते हैं- 35 से 40 फीट ऊपर के बिल्डिंग में आग लगने पर बचाव के लिए रांची से मदद बुलानी होगी।

15 लाख की आबादी पर अग्निशमन के छह वाहन, इनके लिए 36 की जगह सिर्फ नौ कर्मी पदस्थापित

चाईबासा अग्निशमन कार्यालय में खड़े वाहन।

आगजनी से ज्यादा साल भर नेता मंत्री की चौकीदारी में बिताता है अग्निशमन विभाग

बता दें कि पश्चिमी सिंहभूम जिले में औसतन महीने में तीन से चार छोटी बड़ी घटनाएं आगलगी की होती है। लेकिन अग्निशमन विभाग कर्मचारियों की मानें तो ज्यादा चक्कर विभागीय गाड़ी को नेता मंत्री के आमदरफत से होती है। विभाग का तेल नेता मंत्री की सुरक्षा में ज्यादा खर्च हो रहा है। यह भागमभाग चुनाव के समय ज्यादा बढ़ जाता है।

चाईबासा, चक्रधरपुर, मनाेहरपुर, जगन्नाथपुर, किरीबुरू, झींकपानी

जिले के मुख्य टाउनशिप

जगन्नाथपुर, चक्रधरपुर में जमीन नहीं

जिले के जगन्नाथपुर और चक्रधरपुर अनुमंडल में फायर स्टेशन बनना है। कई सालों से प्रस्ताव लंबित होने के बावजूद जमीन उपलब्ध नहीं हो पाया है। मनोहरपुर के लिये कोई फायर स्टेशन प्रस्तावित नहीं है। बता दें कि फायर स्टेशन खुले में होना चाहिए।

आगजनी के बाद सीकेपी में गाड़ी

चक्रधरपुर से चाईबासा की दूरी करीब 25 किमी है। चक्रधरपुर में कई आगजनी के बाद अब चक्रधरपुर थाना में ही एक फायर ब्रिगेड गाड़ी तैनात कर द गई है। इसमें तीन कर्मचारी तैनात हैं। इसके कारण चाईबासा अग्निशामक कार्यालय में कर्मचारी सिर्फ छह रह गए हैं। इन दिनों जिला अग्निशमन पदाधिकारी भी ट्रेनिंग पर हैं।

झारखंड में सिर्फ रांची में स्काई लिफ्ट


36 कर्मचारी का काम कर रह 6 लोग

पश्चिमी सिंहभूम जिला मुख्यालय में कुल छह अग्निशामक वाहन हैं। एक वाहन में औसतन छह कर्मचारी होने चाहिये। इस हिसाब से कुल छह गाड़ी में 36 कर्मचारियों की जरूरत है,लेकिन यहां नौ कर्मचारी तैनात हैं। इनमें तीन चक्रधरपुर में हैं।

इमरजेंसी नंबर सीडीएमए सेट में

जिला अग्निशामन कार्यालय में इमरजेंसी कांट्रेक्ट नंबर 9304953421 है। ये रिलायंस का नंबर है। जिसकी सेवा सीडीएमए सेट में दी गई है। कर्मचारी बताते हैं कि पुराने सेट पर यह नंबर होने के कारण अक्सर फेल रहता है। लिहाजा निजी नंबर 9973014740 को लोगों की जरूरत के लिए जारी की गई है।

गुजरात के सूरत शहर में घटी थी घटना

गुजरात राज्य के सूरत शहर के एक कोचिंग सेंटर में आग लग गई थी। जिसमेें 20 स्टूडेंट जलकर अाैर छलांग लगाकर मर गये थे। इस घटना में गुजरात की ़़19 दमकल गाड़ी अाग बुझाने काे पहुंची,लेकिन जिस बिल्डिंग में अाग लगी थी, वहां तक दमकल गाड़ियों की बचाव सीढ़ी नहीं पहुंच रहे थे। जिसके कारण कई की जान सीढ़ी के अभाव में नहीं बचायी जा सकी।

X
Chaibasa News - building 50 feet in the district fire brigade will have only 35 feet staircase emergency will be difficult
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना