बहकावे में आकर कानून को हाथ में न लें : एसडीपीओ

Chaibasa News - खरसावां प्रखंड अंतर्गत हरिभंजा पंचायत सचिवालय में हिंसक भीड़ का उप्रदव (माॅब लिंचिंग) पर प्रखंड स्तरीय एक दिवसीय...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:20 AM IST
Kharsawan News - do not take the law into the hands of mischief sdpo
खरसावां प्रखंड अंतर्गत हरिभंजा पंचायत सचिवालय में हिंसक भीड़ का उप्रदव (माॅब लिंचिंग) पर प्रखंड स्तरीय एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में विभिन्न पंचायतों के मुखिया, जिप, पंसस, वार्ड सदस्य, ग्राम प्रधानों ने भाग लेकर सामाजिक कुरीतियों को दूर करने एवं भीड़ का हिस्सा बनकर कानून को हाथ में नहीं लेने का संकल्प लिया। मौके पर उपस्थित सरायकेला अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अविनाश कुमार ने कहा कि जिले के राजनगर-सरायकेला में दो बड़ी घटनाएं होना दुर्भाग्यपूर्ण है। कोल्हान प्रमंडल डायन, बाल-विवाह, चोरी सहित कई सामाजिक कुरीतियों से गुजर रहा है। 21वीं सदी में भी ग्रामीण डायन-ओझागुणी के चक्कर में पड़कर अपराध करते हैं। दुनिया में हर बिमारी का इलाज है। ओझागुणी के पास जाना समय की बर्बादी है। उन्होंने कहा कि बिना इजाजत किसी के घर में घुसना अपराध है। अगर ऐसी घटना होती है तो पुलिस को सूचना दें। किसी के बहकावे में आकर कानून को हाथ में नहीं लें। ग्रामीणों की गलती प्रशासन भुगतता है। धातकीडीह मामले में जिसने गलती की है, उसे सजा जरूर मिलेगी। कुछ लोगों के कारण निर्दोष लोग भी परेशान हैं। इस दौरान प्रमुख नांगी जामुदा, थाना प्रभारी सनोज कुमार चैधरी सहित मुखियाओं ने माॅब लिंचिंग पर अपने विचार रखे।

खरसावां के हरिभंजा में माॅब लिंचिंग पर कार्यशाला

कार्यशाला में शामिल पदाधिकारी, जनप्रतिनिधि, ग्राम प्रधान आदि।

अप्रिय घटना होने पर प्रशासन को सूचना दें : बीडीओ

बीडीओ दयानंद प्रसाद जायसवाल ने कहा कि जनता प्रशासन का अंग है। जनता का विश्वास प्रशासन पर होना चाहिए। किसी भी तरह की अप्रिय घटना घटने पर प्रशासन को सूचित करें। कानून को हाथ में नहीं लें। मौके पर एसडीपीओ अविनाश कुमार, प्रमुख नांगी जामुदा, बीडीओ दयानंद प्रसाद जयसवाल, जिप कुवर सिंह बानरा, थाना प्रभारी सनोज कुमार चैधरी, पंसस प्रभाकर मंड़ल, जितवाहन मंड़ल, मुखिया जानो माई जामुदा, रानी हेम्ब्रम, मंजू बोदरा, राजाराम पुति, रामलाल आदि मौजूद थे।

आत्मरक्षा के लिए जरूरी कदम उठाएं : अविनाश

एसडीपीओ अविनाश कुमार ने कहा कि आत्मरक्षा के लिए कारगर कदम उठा सकते हैं। बशर्ते उसे साबित करना होगा। आईपीसी की धारा 96 से लेकर 106 तक राइट टू सेल्फ डिफेंस का प्रावधान है। इसके तहत हर व्यक्ति को प|ी, बच्चों की सुरक्षा, अपने करीबियों और अपनी संपत्ति की सुरक्षा कर सकते हैं। अगर कोई आपके ऊपर हमला करता है या आप की संपत्ति को नुकसान पहुंचाता है तो आप खुद जरूरी कदम उठा सकते हैं।

X
Kharsawan News - do not take the law into the hands of mischief sdpo
COMMENT