सारंडा: सीआरपीएफ कैंप में सांपों के खतरे से जूझ रहे जवान

Chaibasa News - नक्सलियों से लड़ाई लड़नेवाले सीआरपीएफ के अधिकारी व जवान सारंडा में जहरीले सांपों व अन्य विषैले जीवों के खतरे से भी...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:21 AM IST
Manoharpur News - saranda crpf camp jawans battling snakes
नक्सलियों से लड़ाई लड़नेवाले सीआरपीएफ के अधिकारी व जवान सारंडा में जहरीले सांपों व अन्य विषैले जीवों के खतरे से भी जूझ रहे हैं। इसके बावजूद ये लोग अब सांपों को मारने की बजाय उसे कैम्प से दूर भगा देते हैं। सारंडा स्थित दीघा के सीआरपीएफ कैम्प में अक्सर सांप व अन्य विषैले जीव-जंतु निकलते रहते हैं। खबर के मुताबिक पहले कई दफा खतरा को देखते हुए जवानों द्वारा सांपों को मार दिया जाता था। लेकिन अब इन लोगों ने इन्हें मारना बंद कर दिया है। इन्हें अब कैम्प से दूर भगा दिया जा रहा है। सहायक कमांडेंट मनोज कुमार के अनुसार कैम्प व आसपास में अक्सर कई प्रजातियों के सांप निकल रहे हैं। इनमें कोबरा, वाइपर समेत कई तरह के जहरीले व रंग - बिरंगे सांप भी होते हैं। कई सांप तो 20 - 20 तक लंबे होते हैं। परंतु अब उन्हें मारा नहीं जा रहा है। उन्होंने बताया कि अब तक दर्जनों सांपों को कैम्प से दूर भगाने का काम किया जा चुका है। साथ ही जवानों को भी निदेशित किया गया है कि वे सांपों को नहीं मारें।

कैम्प में मौजूद सांप।

घने जंगल मे अवस्थित है यह कैंप

ज्ञात हो कि दीघा का सीआरपीएफ कैम्प घने जंगल में एक ऊंचाई पर अवस्थित है। यह कैम्प करीबन 1500 फुट की ऊंचाई पर अवस्थित है। ऐसे में यहां सांप व अन्य विषैले जीवों की आवाजाही होती रहती है। जिससे जवानों को अक्सर इनका खतरा बना रहता है। वहीं अभियान के दौरान भी इन्हें इस तरह के जीवों का खतरा बना रहता है। इसके बावजूद इन्हें पकड़कर सुरक्षित छोड़ देना सीआरपीएफ का एक सराहनीय कार्य कहा जा सकता है।

भास्कर न्यूज| मनोहरपुर

नक्सलियों से लड़ाई लड़नेवाले सीआरपीएफ के अधिकारी व जवान सारंडा में जहरीले सांपों व अन्य विषैले जीवों के खतरे से भी जूझ रहे हैं। इसके बावजूद ये लोग अब सांपों को मारने की बजाय उसे कैम्प से दूर भगा देते हैं। सारंडा स्थित दीघा के सीआरपीएफ कैम्प में अक्सर सांप व अन्य विषैले जीव-जंतु निकलते रहते हैं। खबर के मुताबिक पहले कई दफा खतरा को देखते हुए जवानों द्वारा सांपों को मार दिया जाता था। लेकिन अब इन लोगों ने इन्हें मारना बंद कर दिया है। इन्हें अब कैम्प से दूर भगा दिया जा रहा है। सहायक कमांडेंट मनोज कुमार के अनुसार कैम्प व आसपास में अक्सर कई प्रजातियों के सांप निकल रहे हैं। इनमें कोबरा, वाइपर समेत कई तरह के जहरीले व रंग - बिरंगे सांप भी होते हैं। कई सांप तो 20 - 20 तक लंबे होते हैं। परंतु अब उन्हें मारा नहीं जा रहा है। उन्होंने बताया कि अब तक दर्जनों सांपों को कैम्प से दूर भगाने का काम किया जा चुका है। साथ ही जवानों को भी निदेशित किया गया है कि वे सांपों को नहीं मारें।

अब तक नहीं हुआ है कोई नुकसान: कमांडेंट

सहायक कमांडेंट के अनुसार भले ही अब तक सैकंडों सांप कैम्प में निकले हों परंतु उन्होंने अभी तक किसी तरह का नुकसान नहीं किया है। बताया कि कैम्प में हर दूसरे - तीसरे दिन सांप आ धमकता है। कई बार तो किचन और जवानों के सोने वाले स्थान तक पहुंच जाता है। इसीलिए कैम्प में स्नेक कैचर स्टिक रखा गया है। जिसके जरिये सांप को पकड़कर कैम्प से बाहर छोड़ दिया जाता है। उन्होंने यह भी बताया कि कैम्प में एंटी स्नेक वेनम भी है। ताकि किसी भी तरह की आपात स्थिति में उसका सदुपयोग किया जा सके।

X
Manoharpur News - saranda crpf camp jawans battling snakes
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना