• Home
  • Jharkhand News
  • Chakradharpur
  • हावड़ा-मुंबई रेल मार्ग पर दुर्घटना में 4 हाथियों की मौत के बाद कई ट्रेनें विलंब से चलीं, पहली बार इस जोन से गुजर रहे थे हाथी
--Advertisement--

हावड़ा-मुंबई रेल मार्ग पर दुर्घटना में 4 हाथियों की मौत के बाद कई ट्रेनें विलंब से चलीं, पहली बार इस जोन से गुजर रहे थे हाथी

हावड़ा-मुंबई रेल मार्ग के बामरा स्टेशन के पास जिस जगह पर ट्रेन के धक्के से हाथियों की मौत हुई है, यह इलाका एलीफेंट...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 02:05 AM IST
हावड़ा-मुंबई रेल मार्ग के बामरा स्टेशन के पास जिस जगह पर ट्रेन के धक्के से हाथियों की मौत हुई है, यह इलाका एलीफेंट जोन नहीं है। जबकि रेलवे ने कई जगहों को एलीफेंट का डेंजर घोषित कर रखा है। बताया जा रहा है कि पहली बार घटनास्थल के आसपास हाथियों का झुंड पहुंचा और रेललाइन क्राॅस कर रहा था। वहीं इस घटना के बाद सिंगल लाइन पर ही कई ट्रेनें चलायी गईं। वहीं अप व डाउन की लाईन के लगभग एक दर्जन ट्रेनें 2 से 4 घंटे विलंब से चलीं। सुबह 7 बजकर 20 मिनट पर ट्रैक क्लीयर होने के बाद ट्रेनों का परिचालन सामान्य हुआ। इस दौरान यात्रियों को काफी परेशानी हुई।

एलिफेंट जोन का क्या है प्रावधान

रेलवे द्वारा एलिफेंट जोन को चिह्नित कर उस जगह पर बोर्ड लगाया कर सूचित किया जाता है। कि इस क्षेत्र में हाथियों का आवागमन है इसलिए ट्रेन की रफ्तार दिए गये नियमानुसार रखें। कई जगह पर ऐसे क्षेत्र की घेराबंदी की गई है। साथ ही लोको पायलटों को आदेश दिया जाता है कि लगातार हार्न बजाते हुए और विशेष तौर पर ट्रैक पर नजर रखकर ऐसे क्षेत्र से ट्रेन पार करनी है।

जिस जगह पर ट्रेन ने हाथियों को टक्कर मारी, वह क्षेत्र एलिफेंट जोन घोषित नहीं

ये ट्रेनें विलंब से चलीं

अप ट्रेन : 12810 मुंबई हावड़ा मेल एक्सप्रेस , 19659 शालीमार उदयपुर एक्सप्रेस, 18310 जम्मूतवी एक्सप्रेस, 12102 ज्ञानेश्वरी सुपर डीलक्स एक्सप्रेस, 22839 राउरकेला भुवनेश्वर इंटरसिटी एक्सप्रेस, 18005 कोरापुट समलेश्वरी एक्सप्रेस, 12950 संतरागाछी कोरापुट कवि गुरु एक्सप्रेस, 12834 अहमदाबाद एक्सप्रेस।

डाउन ट्रेन : 12859 मुंबई हावड़ा गीतांजली एक्सप्रेस, 13352 एलेप्पी एक्सप्रेस, 12833 हावड़ा अहमदाबाद एक्सप्रेस, 18452 तपस्विनी एक्सप्रेस, 58162 झारसुगुडा हटिया एक्सप्रेस।

अपने सामान्य स्पीड से चल रही थी ट्रेन

12810 मुंबई मेल एक्सप्रेस ट्रेन में दक्षिण पूर्व रेलवे संतरागाछी लोको शेड का डब्लूएपी 4 लगाया गया था। ट्रेन सामान्य प्रति घंटा 120 किमी की रफ्तार से चल रही थी, जो सामान्य स्पीड है। इधर इस हादसे के बाद लोको इंजन का बॉक्स का जांच के लिए बंडामुंडा इलेक्ट्रिक लोको शेड ले जाया गया है जहां चक्रधरपुर रेल मंडल के वरीय पदाधिकारी जांच करेंगे।

रो पड़े गांव के लोग, पूजा-अर्चना की

ओडिसा राज्य के बैज्जापल्ली गांव के पास ट्रेन के धक्के से मारे गए चार हाथियों को देखकर गांव वाले भी द्रवित हो गए। शिशु हाथी भी एक मृत था। गांव के लोग इस दौरान पूजा-अर्चना भी करने लगे। गांव के लोग रोते हुए नजर आए। ग्रामीणों ने बताया कि घटना के वक्त अंधेरा था। इस कारण हाथियों ने ट्रेन को नहीं देखा। इस कारण दुर्घटना हुई। मृत हाथियों को देखकर हर किसी की आंखें नम थी।